अंतिम संस्कार के लिए नहीं थे पैसे, 3 दिन घर में रखी लिव-इन पार्टनर की लाश, फिर...

अंतिम संस्कार के लिए नहीं थे पैसे, 3 दिन घर में रखी लिव-इन पार्टनर की लाश, फिर...

MP News : कहते हैं गरीबी इंसान से बहुत कुछ करा देती है। कई बार पैसों की तंगी के चलते लोग गलत रास्ते पर निकल जाते हैं। धनाभाव इंसान से ऐसा कुछ करा देता है, जिसके बारे में उसने कभी सोचा भी न हो। पैसों की तंगी से जुड़ा एक ऐसा ही मामला मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर से सामने आया है। यहां पुलिस को बोरे में एक महिला की लाश मिली थी। पुलिस ने जांच के बाद मामले का खुलासा करते हुए बताया कि महिला का पति उसकी लाश को सड़क पर छोड़कर चला गया था।

इंदौर के चंदन नगर थाना क्षेत्र स्थित एक बोरे में महिला की लाश मिलने की सूचना से पहले हड़कंप मच गया था। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज कर मामले की जांच शुरू की। महज 6 घंटे में पुलिस ने पूरे घटनाक्रम का खुलासा कर दिया। जांच में यह बात सामने आई कि पति के पास अंतिम संस्कार के लिए पैसे नहीं थे, लिहाजा वह सड़क पर लाश छोड़कर चला गया था।

पति को छोड़कर मदन के साथ रहने लगी थी आशा
पति मदन की मुलाकात 10 साल पहले आशा से हुई थी। आशा ने अपने पति और बच्चे को छोड़ दिया था। इसके बाद वह अकेले ही गंगवाल बस स्टेशन पर रहती थी। गंगवाल बस स्टेशन पर मदन की आशा से मुलाकात हुई और मदन ने आशा को अपने साथ रहने की बात कही, जिस पर आशा मदन के साथ रहने लगी। तकरीबन 10 सालों तक दोनों पति-पत्नी की तरह साथ रहने लगे। मदन रंगाई पुताई का काम करने लगा, तो वहीं आशा घर व अन्य छोटे-मोटे काम करने लगी।

अचानक आशा की पिछले दिनों तबीयत खराब हो गई, तो मदन ने उसकी बीमारी का इलाज करवाना शुरू किया, लेकिन तबीयत ज्यादा खराब होने पर आशा की मौत हो गई। मौत के 3 दिन तक मदन ने अपनी पत्नी आशा की लाश को घर में ही रखा, लेकिन इसी दौरान वह बदबू मारने लगा तो आसपास रहने वाले पड़ोसियों ने मदन से पूछताछ शुरू की।

यह भी पढ़े भाजया नेता की गोली मारकर हत्‍या, आरोप‍ियों के घरों में तोड़फोड़ और आगजनी

मदन ने पड़ोसियों को पत्नी की मौत की जानकारी नहीं दी। रविवार सुबह उसने आशा के शव को बोरे में बांधकर सड़क पर छोड़ दिया। मामले में एडिशनल डीसीपी आनंद यादव का कहना है कि 'मदन की भी आर्थिक स्थिति के साथ ही मानसिक स्थिति भी खराब है। इसी के चलते उसने इस तरह का कदम उठाया है। विभिन्न तथ्यों पर जांच पड़ताल की तो किसी तरह के हत्या के सबूत पुलिस को नहीं मिले। पुलिस ने आगे बढ़कर मृतका आशा का पोस्टमार्टम करवाकर उसका अंतिम संस्कार भी पति मदन के साथ मिलकर करवाया।

यह भी पढ़े परिवार का मुखिया बना जल्लाद : कुल्हाड़ी से काटकर 8 लोगों की हत्या, मचा हड़कम्प

Post Comments

Comments

Latest News

बलिया से चार इंस्पेक्टर और 27 दरोगा का तबादला बलिया से चार इंस्पेक्टर और 27 दरोगा का तबादला
Ballia News : जनपद में अपनी पांच वर्ष की सेवा पूरी कर चुके चार इंस्पेक्टर और एसओजी प्रभारी समेत 27...
ब्यूटी पार्लर में सज रही दुल्हन की गोली मारकर हत्या
24 जून 2024 : कैसा रहेगा अपना आज, पढ़ें दैनिक राशिफल
स्पोर्ट्स स्टेडियम बलिया में कुछ यूं मना अन्तर्राष्ट्रीय ओलम्पिक दिवस 
किसान ने तहसीलदार को जड़ा थप्‍पड़, वीडियो वायरल
बलिया : इग्नू परीक्षा केन्द्र का सहायक क्षेत्रीय निदेशक ने किया निरीक्षण
ग्राम विकास अधिकारी एसोसिएशन बलिया : जिलाध्यक्ष गिरीश कुमार पाण्डेय, मंत्री बनें रविशंकर यादव