बलिया : 'बाहर' फंसे लोगों को लाने की प्रक्रिया शुरू, BSA और DIOS को मिली बड़ी जिम्मेदारी

बलिया : 'बाहर' फंसे लोगों को लाने की प्रक्रिया शुरू, BSA और DIOS को मिली बड़ी जिम्मेदारी


बलिया। जिले के ऐसे व्यक्ति, जो अन्य प्रांतों में जीवन यापन कर रहे हैं तथा लाकडाउन की वजह से फंसे हैं और वे अपने मूल स्थान पर आना चाहते हैं, उनकी वापसी के लिए शासन स्तर से चरणबद्ध कार्यवाही की जा रही है। जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही ने बताया कि फिलहाल, हरियाणा राज्य में काम करने वाले लोगों की वापसी की प्रक्रिया शुरू है। अन्य प्रांतों से भी लोगों को वापस लाया जाएगा। 

यह भी पढ़ें : Lockdown के बीच बलिया BSA की अपील, खुद की सुरक्षा के लिए करें यह काम


ऐसे व्यक्तियों की जनपद में वापसी के बाद मेडिकल जांच कराकर 14 दिन के लिए क्वॉरेंटाइन फैसिलिटी सेंटर में रखा जाएगा। उन्होंने बताया कि बलिया में 10 हजार व्यक्तियों की वापसी की संभावना है। इस हिसाब से विद्यालयों, संस्थानों और उनके परिसर को क्वॉरेंटाइन फैसिलिटी सेंटर के रूप में प्रयोग किया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग द्वारा मेडिकल टीम गठित कर हर सेंटर में रखे गए व्यक्तियों का समय-समय पर मेडिकल जांच होती रहेगी। 

जिले में कुल 103 क्वारंटाइन सेंटर, सबके बनाए गए प्रभारी

जिलाधिकारी ने सभी तहसील क्षेत्र में कुल मिलाकर 103 क्वॉरेंटाइन फैसिलिटी सेंटर बनाया है। इसमें सबसे ज्यादा सदर तहसील क्षेत्र में 28 सेंटर हैं। इसके अलावा रसड़ा में 18, सिकन्दरपुर में 11 सेंटर, बेल्थरारोड में 15 सेंटर, तहसील बैरिया में 13 सेंटर, बांसडीह में 18 क्वारंटाइन फैसिलिटी सेंटर बनाए गए हैं। हर सेंटर पर एक-एक अधिकारी को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। तहसील स्तर पर एसडीएम इसके प्रभारी अधिकारी होंगे, जबकि एडीएम बलिया ओवरऑल इंचार्ज होंगे।

हर सेंटर पर नोडल अधिकारी भ्रमण कर 28 तक देंगे रिपोर्ट

जिलाधिकारी ने सभी नोडल अधिकारियों को निर्देश दिया है कि क्वारंटाइन फैसिलिटी सेंटर के प्रबंधक के साथ परिसर का भ्रमण कर 28 अप्रैल तक एसडीएम के माध्यम से रिपोर्ट देंगे। सोशल डिस्टेंस को ध्यान में रख कमरों की संख्या, विद्युत, पेयजल, शौचालय आदि की व्यवस्था सुनिश्चित कराएंगे। लोगों के सोने के लिए गद्दा, चादर, बिस्तर की आपूर्ति के लिए पहले से टेंट हाउस आदि के माध्यम से कर लेंगे। बेसिक शिक्षा की परसोइया के माध्यम से रसोईघर का संचालन तथा पंचायती राज के माध्यम से सफाई कर्मियों के माध्यम से सफाई व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे। हर सेंटर पर तीन-तीन सफाईकर्मी की तैनाती होगी। 

विवरण तैयार करने की जिम्मेदारी डीआईओएस व बीएसए को

सभी क्वारंटाइन सेंटर पर आने वाले व्यक्तियों का विवरण निर्धारित प्रारूप पर तैयार करने की जिम्मेदारी डीआईओएस और बीएसए को दी गई है। इसमें अपने विभाग के कर्मियों की तैनाती कर व्यवस्था सुनिश्चित कराएंगे। हर एक व्यक्ति का डाटा तैयार कर प्रतिदिन रिपोर्ट करना होगा।

Post Comments

Comments

Latest News

बलिया में भीषण सड़क हादसा : शादी समारोह से लौट रही सफारी पलटी, चार युवकों की दर्दनाक मौत बलिया में भीषण सड़क हादसा : शादी समारोह से लौट रही सफारी पलटी, चार युवकों की दर्दनाक मौत
बलिया : एनएच 31 पर स्थित फेफना थाना क्षेत्र के राजू ढाबा के आस पास हुए सड़क हादसे में चार...
एक बार फिर बदल गया 8वीं तक के स्कूल संचालन का समय
25 अप्रैल 2024 : जानिएं क्या कहते है आपके सितारे, पढ़ें दैनिक राशिफल
बलिया में किसानों की जमीन पर बाढ़ विभाग की दखल, अन्नदाताओं ने JE के खिलाफ दी तहरीर
बलिया : बोलेरो की टक्कर से बाइक सवार शिक्षक की मौत, दो युवक घायल
बलिया : ड्यूटी पर तैनात सिपाही का बल्ब चुराते वीडियो वायरल !
जीवनसाथी की हत्या : बलिया में पत्नी ने उजाड़ दिया खुद का सुहाग