मौत से अच्छी नहीं है दिल्लगी... वायरल हुई बलिया के शिक्षक की

मौत से अच्छी नहीं है दिल्लगी... वायरल हुई बलिया के शिक्षक की




दोस्तो,घर में रहों

दोस्तो, समझो नज़ाकत वक़्त की :घर में रहो !
मौत से अच्छी नहीं है दिल्लगी : घर में रहो !

घर से बाहर पांव रखते ही झुलस जाओगे तुम
हर तरफ़, देखो, लगी है आग-सी :घर में रहो !

वो किसी मंदिर को जाती हो कि मस्जिद को, मियां,
पुर ख़तर है इन दिनों हर इक गली :घर में रहो !

रोक लो रफ़्तार अपनी, कुछ दिनों के वास्ते 
डाल लो ठहराव की आदत नयी :घर में रहो !

लूट लो ढलती जवानी में लड़कपन के मज़े...
खेलकर आपस में फिर अन्ताक्षरी :घर में रहो !

हौसला रक्खो 'शशी', बस कुछ दिनों की बात है,
बीत जाएगा ये दौर-ए-बेबसी : घर में रहो !"

शशी प्रेमदेव, शिक्षक एवं साहित्यकार बलिया

Post Comments

Comments

Latest News