बलिया : पत्रकार की बेटी ने मां को समर्पित की यह कविता, 12वीं की छात्रा है कामना

बलिया : पत्रकार की बेटी ने मां को समर्पित की यह कविता, 12वीं की छात्रा है कामना

मडर्स डे पर विशेष

मां


मां तुमसे ही हम दुनिया में आते है,
फिर तुम ही को हम क्यों भूल जाते है।
हे मां ! तुम इतनी भोली क्यों होती हो ?

उंगली पकड़कर चलना भी तुम हमें सीखाती हो,
पर तुम्हें सहारा देने हम कभी नहीं आते है।
हे मां ! तुम इतनी भोली क्यों होती हो ?

घूम घूम कर खाना हमें तुम ही खिलाती हो,
पर एक एक निवाले के लिए तुम स्वयं तरस जाती हो।
हे मां ! तुम इतनी भोली क्यों होती हो ?

हमारी हर जिद को पूरा तुम ही करती हो,
पर अपनी किसी भी जरूरत को तुम किसी से नहीं कह पाती हो।
हमारे हर गुस्से को तुम हर बार सह जाती हो,
हे मां ! तुम इतनी भोली क्यों होती हो?

हमारी हर खुशी को अपनी खुशी समझ जाती हो,
अपने गम तुम किसी को भी नहीं बताती हो।
हे मां ! तुम इतनी भोली क्यों होती हो ?

हमारी हर ख्वाहिशों को सर माथे लगाती हो,
तुम अपने सपने को छोड़  हमारे सारे सपने पूरे कराती हो।
हे मां ! तुम इतनी भोली क्यों होती हो ?

इतनी भोली क्यों होती हो तुम, की आसानी से  छल दी जाती हो।
भगवान की परछाई होने के बावजूद, तुम एक कोने में छोड़ दी जाती हो।
हे मां ! तुम इतनी भोली क्यों होती हो ?




लेखिका : कामना पांडेय
(कामना पांडेय, बलिया के वरिष्ठ पत्रकार श्रवण पांडेय की पुत्री है।)

 कक्षा- 12
Tags:

Related Posts

Post Comments

Comments

Latest News

25 जून से खुलेंगे स्कूल, 28 जून से आयेंगे बच्चें, ऐसे होगा स्वागत ; बलिया बीएसए ने जारी की एडवाइजरी 25 जून से खुलेंगे स्कूल, 28 जून से आयेंगे बच्चें, ऐसे होगा स्वागत ; बलिया बीएसए ने जारी की एडवाइजरी
बलिया : ग्रीष्मकालीन छुट्टी 24 जून को समाप्त हो रही है, यानि 25 जून से परिषदीय स्कूल खुलेंगे। इसको लेकर...
बलिया पुलिस के हत्थे चढ़ा 11 वर्षीय बच्चे का हत्यारा
बलिया में करंट से युवक की मौत, बेटे के शव को सीने से लगाकर बिलखती रही मां
बलिया से चार इंस्पेक्टर और 27 दरोगा का तबादला
ब्यूटी पार्लर में सज रही दुल्हन की गोली मारकर हत्या
24 जून 2024 : कैसा रहेगा अपना आज, पढ़ें दैनिक राशिफल
स्पोर्ट्स स्टेडियम बलिया में कुछ यूं मना अन्तर्राष्ट्रीय ओलम्पिक दिवस