गंगा की तरह तमाम चुनौतियों, विरोधाभाषों को सहेजते हुए सदियों से अविरल है हिन्दी : डॉ. जनार्दन राय

गंगा की तरह तमाम चुनौतियों, विरोधाभाषों को सहेजते हुए सदियों से अविरल है हिन्दी : डॉ. जनार्दन राय

Ballia News : हिन्दी भले ही भारत के सबसे ज्यादा राज्यों में बोली जाती हो, लेकिन इसको अभी तक अभिजात्य वर्ग की भाषा का दर्जा नहीं मिला है। फिर भी हिन्दी, गंगा की तरह तमाम चुनौतियों, विरोधाभाषों को सहेजते हुए सदियों से अविरल है। उक्त बातें जनपद के वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. जर्नादन राय ने रविवार को काशीपुर मिश्र नेउरी स्थित 'कवि कुटी' पर आयोजित हिन्दी पखवाड़ा के दौरान कही।

डॉ. राय ने कहा कि व्यक्ति की आवाज तभी तक सुनाई देती है, जब तक वह बोलता है। लेकिन वही बात तथ्य और आलेख जब भाषा और साहित्य के रूप में लिखी जाती है, तब वह अमरत्व को प्राप्त कर जाती है। खेद है कि हम आजाद हो गये, परन्तु आजादी की भाषा का आज तक उल्लेख नहीं हुआ। लेकिन भारत का जनमानस यह स्वीकार कर लिया है कि कोई भाषा, जो राष्ट्र का नेतृत्व कर सकती है वह हिन्दी ही है। गोष्ठी का शुभारम्भ परमात्मानंद तिवारी की सरस्वती वंदना से किया गया। इस दौरान हरिकिशोर सिंह, शिवबच्चन सिंह, पियूष पांडेय, कुमार अभिजीत 'अंकित' इत्यादि मौजूद रहे।

Tags:

Post Comments

Comments

Latest News

बलिया में करंट से महिला की मौत बलिया में करंट से महिला की मौत
मझौवां, बलिया: बैरिया थाना क्षेत्र की ग्राम पंचायत जगदेवा अंतर्गत मिश्र गिरी की मठिया निवासी हीरामुनी देवी (45) पत्नी हीरालाल...
बलिया का रोहित पांडेय हत्याकांड : सीएम योगी ने लिया संज्ञान
रामायण प्रसाद सिंह बनें बलिया कोतवाली के निरीक्षक अपराध
बलिया : निरीक्षण में बंद मिले आठ स्कूल, बीएसए की कार्रवाई से मचा हड़कम्प
शिक्षिका के साहस के आगे बदमाशों के हौसले पस्त
22 जुलाई 2024 : क्या कहते हैं आपके सितारे, पढ़ें दैनिक राशिफल
रोहित पांडेय हत्याकांड में बलिया पुलिस का बड़ा एक्शन, एसपी ने किया यह ऐलान