BEO के बलिया पहुंचते ही खुला शिक्षिका का फर्जीवाड़ा, ममता और रंभा पर मुकदमा

BEO के बलिया पहुंचते ही खुला शिक्षिका का फर्जीवाड़ा, ममता और रंभा पर मुकदमा


मऊ। बेसिक शिक्षा विभाग के रतनपुरा के उप्रावि मुबारकपुर में 25 वर्षों से ममता राय के शैक्षिक अभिलेखों पर काम कर रही रंभा पांडेय को विभाग ने बर्खास्त कर दिया। वही, जिलाधिकारी ज्ञानप्रकाश त्रिपाठी के निर्देश पर शनिवार को ममता राय और रंभा पांडेय के खिलाफ हलधरपुर थाने में बीईओ ने प्राथमिकी दर्ज कराई। इसके साथ ही बीएसए कार्यालय में कई संदिग्ध शिक्षकों के रिकार्ड खंगाले जा रहे हैं।

बेसिक शिक्षा अधिकारी ओपी त्रिपाठी ने बताया कि ममता राय पुत्री भगवान राय की प्रथम नियुक्ति जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी महाराजगंज के पत्रांक अर्थ-1/बीटीसी 95-96 के अनुसार 22 अगस्त 1995 को कन्या प्राथमिक विद्यालय मिठौरा, शिक्षा क्षेत्र मिठौरा पर हुई थी। अंतर्जनपदीय स्थानांतरण के तहत सचिव बेसिक शिक्षा के आदेश पर 14 अगस्त 2000 को ममता राय का स्थानांतरण मऊ के ग्रामीण क्षेत्र के लिए हुआ। बीएसए महाराजगंज ने ममता राय को 04 सितंबर 2002 को मऊ के लिए कार्यमुक्त किया। ममता राय जनपद मऊ में किस विद्यालय पर पदस्थापित हुई, सेवा पुस्तिका में अंकित नहीं है। 

तत्कालीन बेसिक शिक्षा अधिकारी मऊ के आदेश पर दिनांक 06 नवंबर 2000 को ममता राय का पदस्थापन प्राथमिक विद्यालय बेलौझा-1 के लिए किया गया। तबसे वह रतनपुरा में पढ़ाते-पढ़ाते पदोन्नति कर उच्च प्राथमिक स्कूल मुबारकपुर रतनपुरा में पहुंच गई थीं। जांच में यही ममता राय अब रंभा पांडेय निकली है। बीएसए ओपी त्रिपाठी ने बताया कि चूंकि ममता राय के अभिलेखों पर रंभा पांडेय काम कर रही थी, इसलिए दोनों कदाचार के लिए दोषी हैं। दोनों के विरुद्ध एफआइआर दर्ज कराया गया है।

ऐसे पकड़ में आई रंभा

सात जून को जिलाधिकारी के वाट्सएप पर रतनपुरा ब्लाक में ममता राय नामक फर्जी अध्यापिका की शिकायत आई। कहा गया था कि वह ममता राय नहीं है, बल्कि रंभा पांडेय पुत्री शिवनाथ पांडेय निवासी पांडेयपुर पोस्ट ताखा है। डीएम ने इसे बीएसए को फारवर्ड करते हुए जांच कराने का आदेश दिया। बीएसए ने जब बीईओ रतनपुरा को इस मिशन पर लगाया तो 10 जून को बीईओ ने बलिया जिले के पांडेयपुर ताखा गांव पहुंचकर स्थलीय जांच किया। ग्राम प्रधान ताखा राजकिशोर खरवार ने बताया कि ममता राय नाम की उनके ग्राम सभा में कोई महिला नहीं है। जब ममता राय की अभिलेखों में मौजूद तस्वीर दिखाई गई तो ग्राम प्रधान ने उसकी पहचान रंभा पांडेय पुत्री शिवनाथ पांडेय के रूप में की, जिसका विवाह बाछापार में ददन तिवारी के साथ हुई थी। यह प्रमाणित होते ही बीईओ की जांच आख्या पर रंभा पांडेय को बर्खास्त कर दिया गया। इससे विभागीय गलियारे में हड़कम्प मच गया है। 



Tags: मऊ

Post Comments

Comments

Latest News

  जी हां ! फिल्मों को छोड़ कहीं नहीं देखें होंगे ऐसी शादी जी हां ! फिल्मों को छोड़ कहीं नहीं देखें होंगे ऐसी शादी
Lucknow News : राजधानी लखनऊ में शादी का एक अनोखा मामला सामने आया है। ऐसी शादी शायद फिल्मों को छोड़कर...
बलिया : आज इन इलाकों में दो घंटे बाधित रहेगी बिजली, देखें लिस्ट
16 जून 2024 : कैसा रहेगा अपना आज, पढ़ें दैनिक राशिफल
बलिया के इस गांव में कुछ यूं दिखी दबंगई
अंत: जनपदीय पारस्परिक स्थानांतरण वाले शिक्षक जल्द होंगे कार्यमुक्त, देखें बलिया BSA द्वारा जारी कार्यक्रम
रुद्रप्रयाग में बड़ा हादसा : अलकनंदा में गिरी ट्रेवलर, 13 की मौत ; कई घायल
बलिया में चोरी की तीन बाइकों के साथ दो युवक गिरफ्तार