किराया के नाम पर श्रमिकों से वसूली शर्मनाक : रिजवी

किराया के नाम पर श्रमिकों से वसूली शर्मनाक : रिजवी


सिकन्दरपुर, बलिया। पूर्व मंत्री जियाउद्दीन रिजवी ने प्रदेश सरकार व प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाया है। कहा कि गुजरात से श्रमिक स्पेशल ट्रेन से मजदूर बलिया आये है। उनसे ट्रेन के किराया के नाम पर पैसा लिया गया है। समाचार पत्रों को पढ़कर मन बिल्कुल ब्यथित हो गया। सरकार कह रही है कि एक भी मजदूर से किराया नही लिया जायेगा, क्या वह झूठ है। और यह झूठ है तो इससे दुर्भग्यपूर्ण और कुछ भी नही हो सकता। 

उन्होंने सरकार पर आरोप लगाया कि देश के विकास के स्वरूप को संजाने और संवारने में जो मजदूर वर्ग अपना सर्वत्र लगा दिया, आज विपत्ति के समय सरकारे उन्हें अपने हाल पर छोड़ दी है, अन्यथा महाराष्ट्र जैसा हादसा नहीं होता। सरकार की बेपरवाही के कारण मजदूर आज रेल की पटरियों या अन्य रास्तो से घर जाने को मजबूर है। विधानसभा सिकंदरपुर के कई गांव में अगलगी की घटना हुई, आज तक सरकार द्वारा उनको सरकारी सहायता राशि उपलब्ध नहीं कराया गया। मालदह गांव में दो बच्चो की आकाशीय बिजली से मौत हो गई, अभी तक उनको सहायता राशि उपलब्ध नहीं कराई गई। 

पूर्व मंत्री जियाउद्दीन रिजवी ने सरकार से मांग किया कि देश के जिस हिस्से में भी मजदूर है और वह अपने घर जाना चाह रहे है तो सरकार को उन्हे बिना एक पैसे लिए घर तक पहुंचाने का इंतजाम करना चाहिए, क्योंकि मजदूरों का विश्वास जीते बिना देश को विकास के पथ पर अग्रसर नही किया जा सकता।


रमेश जायसवाल

Post Comments

Comments

Latest News

15 जून 2024 : क्या कहते है आपके सितारे, पढ़ें दैनिक राशिफल 15 जून 2024 : क्या कहते है आपके सितारे, पढ़ें दैनिक राशिफल
मेष आज का दिन बिजनेस कर रहे लोगों के लिए उतार-चढ़ाव भरा रहेगा। आज आपको नौकरी में तरक्की मिल सकती...
बलिया में हार्टफुलनेश संस्था ने योग जागरूकता ध्यान शिविर में दिया 'करे योग रहे निरोग' का मंत्र
बलिया : Road Accident में पत्नी और बेटे के साथ स्कूटी सवार बैंककर्मी घायल
TSCT की बलिया टीम ने किया स्थलीय निरीक्षण, 15 जून से होगा इस दिवंगत शिक्षक के परिवार का सहयोग
उत्तर प्रदेश में बढ़ गईं गर्मी की छुट्टियां, अब इस तारीख खुलेंगे स्कूल
समाज कल्याण अधिकारी की बर्खास्तगी तय, पेंशन घोटाले के 65 लाख रुपये रिकवरी का आदेश
बलिया : सड़क हादसों में लगातार हो रही मौतों से आहत लोगों ने उठाई यह मांग