विभागीय उपेक्षा से कराह रहा सीएचसी

विभागीय उपेक्षा से कराह रहा सीएचसी



रसड़ा (बलिया) । रसड़ा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर आज भी आधुनिक चिकित्सा सुविधा उपलब्ध का पूर्ण व्यवस्था न होने के कारण आज़ भी मरीजों कों भारी दुश्वारियां उठानी पड़ रही है। इस स्वास्थ केंद्र पर एक तरफ जहां वर्षों से महिला डाक्टर, फिजिशियन सर्जन  चिकित्सकों, की कमी का दंश झेल रहा है वहीं यहां पर एक्सरे, विभिन्न प्रकार के जांच, सफाई व्यवस्था तथा आवश्यक दवाआें के नाम पर सिर्फ कोरम ही पुरा किया जाता है। इस अस्पताल परिसर में  मरीजों सहित आशा बहुआें के बैठने के लिए कोई इंतजाम विभाग द्वारा नहीं कराया गया है।
जनपद के कई बार मंत्रियों व उच्चधिकारियो के आश्वासन के बाद भी नतीजन मरीज व आशा बहु जमीन  पर बैठने को विवश होते हैं। दवाआें की बात करें तो यहां हमेशा ही आवश्यक दवाआें का अभाव ही बना रहता है। लोगों का आरोप हैं कि यहां दवाएं तो पर्याप्त मात्रा जनपद से आती हैं जरुर मगर धरातल पर कम वितरण किया जाता मगर  कागजों पर भारी भरकर वितरण दिखाया जाता है  सबसे दयनीय स्थिति गंभीर मरीजों को लेकर यहां पर है। खास तौर से आये दिन सड़क दुर्घटनाआें में घायल मरीजों को इलाज करने के बजाय तत्काले रेफर के कागज तैयार कर दिए जाते  हैं नतीजन अक्सर मरीज रास्ते में ही दम तोड़ देते हैं। एेसा नहीं कि इस गंभीर समस्या से स्वास्थ विभाग अनजात है किंतु उच्चाधिकारियों व राजनेताआें के अपेक्षित सहयोग न मिलने से यहां स्थिति दिनप्रतिदिन दयनीय होती चली जा रही है ।
खैर कागजों पर भारी भरकर डाक्टरों की वर्षाें से फ़ौज है मगर धरातल पर दो चार ही डाक्टरों का दर्शन होता है बाकी विभाग के उच्चाधिकारियों के रहमो-करम पर कागजों पर डियूटी करते हैं ।




रिपोर्ट पिन्टू सिंह

Related Posts

Post Comments

Comments

Latest News