प्यार बांटना काम था तेरा, पर...

प्यार बांटना काम था तेरा, पर...


आइना

आइने में खुद को निहारते वक़्त, अब आइना भी पूछ बैठा
क्या तुम वही इंसान हो जिसको उस रब ने भेजा।
इंसानियत को छोड़ अब हैवानियत पे तू उतर गया,
प्यार बांटना काम था तेरा, पर तु नफरत फैलाने पर तूल गया।
अब तो वो ऊपरवाला भी उम्मीद करना भूल गया,
खुद के ऐसोआराम में तू दुसरो का दर्द देखना भूल गया।
जिसने तुझको है बनाया, तूने उसको ही बेच दिया,
धर्मो में सबको बांटकर,ग लती उसी पर मथ दिया।
प्रकृति के हर कोने को तूने है छल्ली कर दिया,
अब जब है उसने रूप दिखाया, तूने इल्ज़ाम उसी पर मढ़ दिया।
अब भी समय है संभल जा, वरना कुछ बचा न पायेगा 
जिससे है तूने जन्म लिया उसी के हाथों अपना विनाश पायेगा।


कामना पांडेय
मिड्ढ़ा, बलिया (उ.प्र.)

(रचनाकार कामना पांडेय बलिया के वरिष्ठ पत्रकार श्रवण पांडेय की बेटी है।)

Post Comments

Comments

Latest News

बलिया एसपी ने 403 पुलिसकर्मियों को दी नई तैनाती, देखें पूरी लिस्ट बलिया एसपी ने 403 पुलिसकर्मियों को दी नई तैनाती, देखें पूरी लिस्ट
बलिया : पुलिस अधीक्षक देवरंजन वर्मा ने जनपद के सभी थानों व कार्यालयों में नियुक्त हेड कांस्टेबल, महिला कान्स्टेबल, कम्प्यूटर...
बलिया में सबसे बड़ी वारदात : कोतवाली गेट के सामने धारदार हथियार से युवक की हत्या
बलिया : बहन के घर से आभूषण और नकदी समेटकर प्रेमी संग भाग गई युवती
मतदाताओं के सम्मान की रक्षा भाजपा की प्राथमिकता 
20 जुलाई 2024 : क्या कहते हैं आपके सितारे, पढ़ें दैनिक राशिफल
बलिया : एसडीएम से मिले सपा कार्यकर्ता, मुकदमा को फर्जी बता रद्द करने की मांग
बलिया में 25 जुलाई को काला दिवस मनायेंगे शिक्षामित्र : पंकज सिंह