मां मंदिर, मां पूजा और मां ही तीर्थ... बच्चों ने मां को कुछ इस अंदाज में किया Wish

मां मंदिर, मां पूजा और मां ही तीर्थ... बच्चों ने मां को कुछ इस अंदाज में किया Wish

बलिया। मां के समर्पण का स्वरूप इतना विराट है कि यदि पूरी जिंदगी समर्पित कर दी जाए तो भी उसके कर्ज को नहीं उतारा जा सकता। मां ही वह सत्ता है, जो  कहने को इंसान होती है पर उसका दर्जा भगवान से कहीं कम नहीं होता। मां मंदिर है, पूजा है और तीर्थ भी है।  दुनिया में मां से बढ़कर कोई इंसानी रिश्ता नहीं होता, यही वजह है उसके साथ बिताए दिन सभी के लिए सुखद एहसास होते हैं। लॉक डाउन के बीच मातृ दिवस पर संतानों के ऐसे ही एहसासों के साथ Purvanchal24 आपके बीच है।





सुनैना, छात्रा, सिकन्दरपुर, बलिया
------------------------

दुनिया से जाने के कई माध्यम हो सकते हैं, परन्तु दुनिया में आने का एकमात्र माध्यम है मां। मेरी मां मेरी दोस्त है। मां कौशल से ही मैं अपने व्यक्तित्व को निखार सका हूं।
शंकर कुमार रावत, शिक्षक
सिकन्दरपुर, बलिया

   शंकर कुमार रावत
------------------------

तेरे बारे में क्या लिखूं मां, मैं खुद तेरी लिखावट हूं। 

बीके पाठक, शिक्षक
नगवां-बलिया

                   बीके पाठक

------------------------



यह पेंटिंग तृप्ति पांडेय ने प्रेषित की है। मिड्ढ़ा निवासी श्रवण कुमार पांडेय की पुत्री फिनिक्स इंटरनेशनल स्कूल, अगरसंडा में 8वीं की छात्रा है।

--------------------------

रुलाया न कर अब मुझे ऐ जिन्दगी, मुझे चुप कराने वाली मेरी मां अब नहीं है।
मो. महमूद, शिक्षक
कुशीनगर

      मो. महमूद

----------------------




वन्दना, छात्रा, सिकन्दरपुर-बलिया
-----------------------

निशा वर्मा
कक्षा 10
गंगोत्री देवी इंटर कॉलेज सिकंदरपुर-बलिया
----------------------------


आराध्या गुप्ता
कक्षा 7
गंगोत्री देवी इंटर कॉलेज सिकंदरपुर-बलिया
--------------------


अभिषेक शर्मा
कक्षा 7
गंगोत्री देवी इंटर कॉलेज सिकंदरपुर बलिया
----------------------

Post Comments

Comments

Latest News

बलिया को मिली एक और ट्रेन, देखिएं छपरा-उधना-छपरा अनारक्षित विशेष ट्रेन की समय-सारिणी बलिया को मिली एक और ट्रेन, देखिएं छपरा-उधना-छपरा अनारक्षित विशेष ट्रेन की समय-सारिणी
वाराणसी : रेलवे प्रशासन द्वारा यात्री जनता की सुविधा हेतु 09103/09104 उधना-छपरा-उधना अनारक्षित ग्रीष्मकालीन विशेष गाड़ी का संचलन उधना से...
बलिया में रोजगार को लेकर बड़ा अवसर आया सामने, उम्र 18 से 50 वर्ष ; ऐसे करे आवेदन
बलिया में तीन दिवसीय चित्रकला प्रदर्शनी का शुभारंभ, काफी खुश है बच्चे
अभ्युदय कोचिंग बनाएगा होनहारों का भविष्य : बलिया में प्रवेश के लिए आवेदन शुरू, जानिएं किस-किस एग्जाम की मिलती है फ्री कोचिंग
बलिया में रेलकर्मी को दौड़ा-दौड़ा कर पीटने वाले दोनों जीआरपी सिपाहियों पर हुई बड़ी कार्रवाई
बलिया : ट्रेन से कटकर अधेड़ की मौत, शिनाख्त में करे जीआरपी की मदद
सहायक अध्यापिका बनते ही पति को ठुकराया, बीएसए ने किया सस्पेंड