पद्मश्री से सम्मानित किसान चींटियों के अंडे खाने को मजबूर

पद्मश्री से सम्मानित किसान चींटियों के अंडे खाने को मजबूर

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हाथों पद्मश्री से सम्मानित ओडिशा के किसान दैतारी नायक अपना पुरस्कार लौटाना चाहते हैं। पुरस्कार लौटाने को लेकर उन्होंने तर्क दिया है कि उनके पास खाने के लिए कुछ भी नहीं है और यह सम्मान उन्हें किसी भी तरह से मदद नहीं कर रहा है।दैतारी नायक ने कहा कि पद्मश्री अवार्ड मिलने के बाद भी मेरी स्थिति जस की तस है। पहले मुझे हर दिन काम मिल जाता था लेकिन अब लोग मुझे काम भी नहीं देते हैं। लोग सोचते हैं कि रोजाना का काम मेरी हैसियत से कम है। हमारी स्थिति यह हो गई है कि अब मुझे चींटी के अंडे खाकर गुजारा करना पड़ रहा है।नायक ने कहा कि अब मैं तेंदू पत्ता और आम का पापड़ बेचकर अपना घर चला रहा हूं। पद्मश्री अवॉर्ड की कोई कीमत नहीं है मेरे लिए। मैं यह पुरस्कार लौटाना चाहता हूं जिससे की मुझे कुछ काम मिल जाए।
Tags:

Related Posts

Post Comments

Comments

Latest News

बलिया से घर लौट रहे थे विशाल, रास्ते से झपट ले गई मौत बलिया से घर लौट रहे थे विशाल, रास्ते से झपट ले गई मौत
बलिया : एनएच-31 पर स्थित दुबहर थाना क्षेत्र अंतर्गत सनाथ पांडेय के छपरा गांव के सामने मंगलवार की देर रात...
बलिया बीएसए ने ऐसे स्कूलों के खिलाफ छेड़ा अभियान, 6 विद्यालयों पर लगा ताला ; बढ़ी औरों की बेचैनी
बलिया का चर्चित हत्याकांड : रोहित पांडेय के घर पहुंचे कैबिनेट मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह, बोले...
बलिया : रोडवेज बस और बाइक में सीधी टक्कर, एक ही गांव के तीन युवकों की मौत, दो घायल
बलिया में 10 सरकारी अस्पतालों का औचक निरीक्षण, 18 डॉक्टर 84 स्टॉफ मिले गैरहाजिर; डीएम ने लिया बड़ा एक्शन
श्रावण मास विशेष : क्यों की जाती है शिवलिंग की पूजा ?
24 जुलाई 2024 : कैसा रहेगा अपना आज, पढ़ें दैनिक राशिफल