शिक्षक ने बनाई 'खामोशी की आवाज' की शब्द श्रृंखला

शिक्षक ने बनाई 'खामोशी की आवाज' की शब्द श्रृंखला


खामोशी की आवाज
मंझधार में छोड़ जाना उनका तू दगा न समझ,
हिम्मत कर पाता तू कैसे समंदर तैर पार जाने का।

अच्छा भी रहा कि सब छोड़ते गये आहिस्ता आहिस्ता,
हुनर कैसे जान पाता तू खुद को आजमाने का।

ये फकीरी भी क्या मस्त चीज़ है, दिल छोटा न कर,
कैसे हजारों हजार रंग देख पाता तू जमाने का।

वीरानियों में खामोशी की आवाज की भी अदा कुछ कम नहीं,
कभी बड़ा शौक रहा है तुझे महफिलें सजाने का।

दौड़ते हांफते हुए ही उम्र जाया कर दी जज्बातों के बाजार में,
मुद्दतों बाद ये मौका है खुद के आइने के पास आने का।

विंध्याचल सिंह, शिक्षक
यूपीएस कम्पोजिट बेलसरा, 
चिलकहर बलिया।

Post Comments

Comments

Latest News

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने साधा सपा पर निशाना डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने साधा सपा पर निशाना
बलिया : उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने बैरिया विधानसभा क्षेत्र के तालिबपुर में विशाल जनसभा को सम्बोधित किया। लोगों...
बलिया में पबजी गेम के इवेंट पर बवाल, युवक को सुलाया मौत की नींद
बलिया : गंगा में डूबने से युवक की दर्दनाक मौत, मचा कोहराम
अंतिम संस्कार के लिए नहीं थे पैसे, 3 दिन घर में रखी लिव-इन पार्टनर की लाश, फिर...
पूर्व मंत्री नारद राय के बयान पर सपा विधायक रिजवी का करारा पलटवार, बोले...
गृहमंत्री अमित शाह से पूर्व मंत्री नारद राय की मुलाकात, बढ़ी बलिया की राजनीतिक तपिश
बलिया और तालिबपुर के बीच खेला गया श्री बजरंगबली क्रिकेट प्रतियोगिता का फाइनल मैच