दर्द की आहट पर, शीतलकारी मरहम हो 'मां'

दर्द की आहट पर, शीतलकारी मरहम हो 'मां'


तपतपाती धूप में
शीतल छांव की अनुभूति हो।
छलियावी दुनिया में
निश्छल प्रेम प्रतीति हो।

सूने उदास दृग तारकों में
चमक जगाती दीप्ति हो।
तन मन हरा कर दे जो
बिन बादल की वृष्टि हो।

दर्द की आहट पर,
शीतलकारी मरहम हो।
नींद जो न आए
लोरी गाती सरगम हो।
सच इतना सा है मां
तू है तो कमी तो नहीं है।

विंध्याचल सिंह
शिक्षक
उच्च प्राथमिक विद्यालय बेलसरा, बलिया

Post Comments

Comments

Latest News

डिजिटल अरेस्ट कर इंजीनियर से 11 लाख की ठगी, पत्नी को बनाया बंधक ; 24 घंटे तक नहीं करने दी किसी से बात डिजिटल अरेस्ट कर इंजीनियर से 11 लाख की ठगी, पत्नी को बनाया बंधक ; 24 घंटे तक नहीं करने दी किसी से बात
UP News : उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद से एक हैरान करने वाली खबर आई है, जहां साइबर अपराधियों ने सिविल...
बलिया में आज दो चुनावी जनसभा को सम्बोधित करेंगे सीएम योगी
25 मई 2024 : क्या कहते है आपके सितारे, पढ़ें दैनिक राशिफल
बलिया : रिपेयरिंग के लिए आई कार में लगी आग, लैपटॉप भी जला 
बात बलिया की... मंदबुद्धि युवती के साथ युवक ने किया घिनौना काम, जानकर रह जायेंगे दंग
बलिया : छात्रनेता शिप्रांत सिंह को गोली मारने वाला मुख्य अभियुक्त पिस्टल के साथ गिरफ्तार
बलिया रेलवे स्टेशन पर ट्रेन की चपेट में आने से दो युवकों की मौत, ऐसे हुई शिनाख्त