दूल्हा-दुल्हन बोले-यह शादी याद रहेगी, क्योंकि...

दूल्हा-दुल्हन बोले-यह शादी याद रहेगी, क्योंकि...


बरौली। लॉकडाउन के बीच में बरौली में विवाह हुआ, जिसमें न बाराती शामिल हुए और न भोज वदिया गया। इस शादी में दूल्हा-दुल्हन पक्ष के सिर्फ पांच लोग एकत्रित हुए। इस विवाह की सभी रस्में महज 3 घंटे में पूरी की गई। जिसमें न तो दूल्हा घोड़ी चढ़ा और न ही बैंडबाज की धुन पर बाराती नाचे।

इस विवाह में दहेज व भोज जैसी प्रथा भी दूर-दूर तक नहीं रहीं। गोपालगंज के बरौली थाना के चौबे टोला से के एन प्रसाद यादव ने अपने पुत्र अभिषेक का बरात एक वाहन से 5 लोगो के साथ नेउरी गॉव के प्रसाद यादव के यहां लेकर पहुंचे। मुहूर्त के अनुरूप पंडित के साथ आधे दर्जन लोग सोशल डिस्टेंस को पालन करते हुए शादी के गवाह बने।

शादी की निभाई गईं सारी रस्में

जैसे ही बारात लेकर वर पक्ष के लोग पहुंचे इसके बाद द्वारपूजा हुआ।वर माला,मंत्रो के बीच सिंदूर दान और एक साथ जीवन बसर करने के लिए दूल्हा अभिषेक और दुल्हन अनु ने सात फेरे लिए।

इस शादी की बात ही निराली है

दूल्हा अभिषेक यादव ने कहा कि सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए अच्छा लग रहा है। कम खर्च में ये शादी हो रहा है।हम समाज को यह संदेश देना चाहते है कि हर आदमी जागरूक हो,कम खर्च में अपने लड़का-लड़की का शादी करे। जिससे समाज मे परिवर्तन संभव हो।

बोली दुल्हन

लॉकडाउन में शादी होने के कारण सभी लोग दूरियां बनाकर रहे।यह शादी यादगार रहेगा।सभी लोग साबुन से हाथ धोए और एक मीटर की दूरी बनाकर रखे, यही संदेश है।

Related Posts

Post Comments

Comments

Latest News

बलिया : मास्‍टर साहब को भारी पड़ी मोबाइल पर मटरगश्ती, बीएसए ने किया सस्पेंड बलिया : मास्‍टर साहब को भारी पड़ी मोबाइल पर मटरगश्ती, बीएसए ने किया सस्पेंड
बलिया। शिक्षण कार्य की बजाय कक्षा कक्ष के बाहर बैठकर मोबाइल चलाना सहायक अध्यापक रामजी चौबे को मंहगा पड़ गया...
शाम को आनी थी बारात, भोर में भागी दुल्हन ने मंदिर में प्रेमी संग लिए 7 फेरे ; Video वायरल
बलिया : स्कूल के लिए निकली छात्रा नहीं लौटी घर, अगले साल होनी है शादी
जिला विज्ञान क्लब द्वारा आयोजित प्रदर्शनी में सनबीम बलिया के बच्चों ने प्राप्त किया पहला स्थान
पेंशन शहीद डॉ. राम आशीष सिंह की स्मृति बलिया के शिक्षक-कर्मचारियों ने लिया बड़ा संकल्प
बलिया : नहीं रहे पत्रकार अरविन्द पाठक, मीडिया जगत स्तब्ध
खण्ड शिक्षा अधिकारी पर एफआईआर, फिर हुआ शिक्षक का अंतिम संस्कार