लॉकडाउन : न बेटे आ सके न पोते, पड़ोसी ने दी मुखाग्नि

लॉकडाउन : न बेटे आ सके न पोते, पड़ोसी ने दी मुखाग्नि


चंदौली। वैश्विक महामारी कोरोना ने लोगों के सामने अजीब मुसीबत खड़ी कर दी है। लॉकडाउन के कारण गैर प्रांतों में फंसे लोगों के घर पर दाह संस्कार के लिए भी पड़ोसियों का सहारा लेना पड़ रहा है। ऐसा ही मार्मिक दृश्य मंगलवार की सुबह चंदौली में धानापुर के सरस्वतीपुर (नौली) में देखने को मिला। गांव के वृद्ध किसान केशव तिवारी (75) के दो बेटे और पोते हैं। फिर भी मुखाग्नि पट्टीदार को देनी पड़ी।

सरस्वतीपुर नौली गांव के केशव तिवारी घर पर अपनी पत्नी 71 वर्षीय शारदा देवी के साथ रहते थे। उनका बड़ा बेटा श्याम शंकर नासिक में प्राइवेट कम्पनी में काम करता है। छोटा बेटा चंदन उर्फ भैरव नोएडा में निजी कम्पनी में है। पोता कृष्णकांत उर्फ भुआल कोलकाता में ट्रांसपोर्ट और दूसरा पोता धनंजय तिवारी पानीपत में निजी कम्पनी में काम करते हैं।

केशव तिवारी कई साल से किडनी की बीमारी से परेशान थे। उनका सोमवार की रात निधन हो गया। लॉकडाउन की वजह से न बेटे आ सके न पोते। पड़ोसी पट्टीदार कृष्ण कुमार उर्फ गुड्डू तिवारी ने नौली गंगा घाट पर शव का दाह संस्कार किया।

Related Posts

Post Comments

Comments

Latest News

रोहित पाण्डेय हत्याकांड : 24 घंटे बाद भी बलिया पुलिस का हाथ खाली रोहित पाण्डेय हत्याकांड : 24 घंटे बाद भी बलिया पुलिस का हाथ खाली
बांसडीह, बलिया : बांसडीह कस्बा निवासी रोहित पाण्डेय की शनिवार सुबह बांसडीह कोतवाली गेट के पास धारदार हथियार से की...
बलिया : करंट की चपेट में आने से युवक की मौत
बलिया कोतवाल संजय सिंह लाइनहाजिर
गरीबी और बदनसीबी से जूझ रहे परिवार के बीच 'राहत' लेकर पहुंचा बलिया का मदद संस्थान
क्या सच में केरल सरकार ने की है अपने 'विदेश सचिव' की नियुक्ति, मुख्य सचिव ने जारी किया यह बयान
बलिया में मासूम बालिका से दुष्कर्म, 28 साल के आरोपी युवक को मिली 25 साल की सजा
बलिया पुलिस के हत्थे चढ़ा युवक, संगीन अपराध में भेजा गया जेल