बलिया : जमकर चले ईंट-पत्थर, Police संग पहुंचे अफसर

बलिया : जमकर चले ईंट-पत्थर, Police संग पहुंचे अफसर


चितबड़ागांव, बलिया। थाना क्षेत्र के वासुदेवा गांव में बुधवार की देर शाम जंगला खोलने को लेकर हुए विवाद में दो पक्षों में जमकर ईंट पत्थर व लाठी-डंडे चले। सूचना मिलते ही चितबड़ागांव व नरही पुलिस के साथ एसडीएम सदर अश्विनी कुमार भी पहुंच गये। एसडीएम ने खोले गए जंगले को बाहर से बंद दिया।

बासुदेवा में रोहित उपाध्याय एवं हैदर अली की मकान अगल बगल है। रोहित उपाध्याय ने अपने मकान में कुछ वर्षों पूर्व एक जंगला लगाया था,  जिसको लेकर दूसरे पक्ष से विवाद भी हुआ था। तब पुलिस ने जंगले को बाहर से ईंट द्वारा बंद करा दिया था। इधर, बुधवार की शाम रोहित उपाध्याय के परिवार के सदस्यों ने बाहर से बंद जंगले की ईंट को उखाड़ दिया, जिससे जंगला साफ-साफ दिखाई देने लगा। 

यह भी पढ़ें : राजनीति के सशक्त हस्ताक्षर थे बच्चा पाठक : सियाराम


इसको लेकर हैदर और रोहित उपाध्याय के परिवार की महिलाओं में मारपीट शुरू हो गई। इस मारपीट में दोनों पक्षों के पुरुष सदस्य भी शामिल हो गये जमकर ईंट पत्थर, लाठी-डंडे चले। दोनों पक्षों के लगभग आधे दर्जन से अधिक पुरुष और महिलायें घायल हुई। सूचना मिलते ही चितबड़ागांव थाने के प्रभारी निरीक्षक हरीराम मौर्य भारी पुलिस बल के साथ घटनास्थल पर पहुंच कर शान्ति ब्यवस्था कायम कराये। 


इस बीच नरही पुलिस और एसडीएम सदर ने घटनास्थल पर पहुंचकर मौके का निरीक्षण किया और उसी वक्त जंगले को पुनः ईट से बंद करवा दिया। इस संबंध में रोहित उपाध्याय के परिजनों का आरोप है कि चितबड़ागांव के प्रभारी निरीक्षक द्वारा उनके घर की महिलाओं के साथ अभद्र व्यवहार किया गया। जबरन प्रशासन द्वारा जंगला बंद करा दिया गया।


अम्बरीश तिवारी 'महादेव'

Post Comments

Comments

Latest News