बलिया : बच्चों को मिलेगा 76 दिन का एमडीएम लाभ, यह होगा मानक

बलिया : बच्चों को मिलेगा 76 दिन का एमडीएम लाभ, यह होगा मानक


बलिया। जिले के परिषदीय और सहायता प्राप्त विद्यालयों के कक्षा एक से आठ तक के छात्रों को एमडीएम के तहत 76 दिन का खाद्यान्न एवं कन्वर्जन कास्ट मिलेगा। एमडीएम का फायदा 24 मार्च तक नामांकित सभी बच्चों को मिलेगा। खाद्यान्न विद्यार्थियों को घर पर मुहैया कराया जाएगा, जबकि कन्वर्जन कास्ट छात्रों के अभिभावकों के खाते में भेजा जाएगा। शासन ने 19 जून को ही संशोधित आदेश जारी कर दिया है। इस क्रम में बीएसए शिवनारायण सिंह ने सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया है। प्रारूप भी उपलब्ध करा दिया गया है।

बता दें कि लॉकडाउन और ग्रीष्म अवकाश में मध्याह्न भोजन योजना के तहत खाद्यान्न वितरण और कन्वर्जन कास्ट की रकम छात्रों के अभिभावकों के खातों में ट्रांसफर करने का निर्देश केंद्र सरकार ने दिया था। उसी क्रम में पिछले महीने अपर मुख्य सचिव रेणुका कुमार की ओर से निर्देश जारी किया गया था, जिसमें 24 मार्च से 30 जून तक एमडीएम का लाभ बच्चों को देने के लिए कहा गया था।

विभागीय अफसरों में कक्षा पांच पास होने के बाद दूसरे स्कूलों में अपना नाम लिखवा लेने और कक्षा आठ उत्तीर्ण विद्यार्थियों को एमडीएम देने को लेकर संशय था। लिहाजा, मामले में शासन से मार्ग दर्शन मांगा गया था। इस सम्बंध में एमडीएम समन्वयक अजीत पाठक ने बताया कि कन्वर्जन कास्ट बच्चों के अभिभावकों के खाते में धनराशि भेजी जाएगी। 


Post Comments

Comments

Latest News

बलिया को मिली एक और ट्रेन, देखिएं छपरा-उधना-छपरा अनारक्षित विशेष ट्रेन की समय-सारिणी बलिया को मिली एक और ट्रेन, देखिएं छपरा-उधना-छपरा अनारक्षित विशेष ट्रेन की समय-सारिणी
वाराणसी : रेलवे प्रशासन द्वारा यात्री जनता की सुविधा हेतु 09103/09104 उधना-छपरा-उधना अनारक्षित ग्रीष्मकालीन विशेष गाड़ी का संचलन उधना से...
बलिया में रोजगार को लेकर बड़ा अवसर आया सामने, उम्र 18 से 50 वर्ष ; ऐसे करे आवेदन
बलिया में तीन दिवसीय चित्रकला प्रदर्शनी का शुभारंभ, काफी खुश है बच्चे
अभ्युदय कोचिंग बनाएगा होनहारों का भविष्य : बलिया में प्रवेश के लिए आवेदन शुरू, जानिएं किस-किस एग्जाम की मिलती है फ्री कोचिंग
बलिया में रेलकर्मी को दौड़ा-दौड़ा कर पीटने वाले दोनों जीआरपी सिपाहियों पर हुई बड़ी कार्रवाई
बलिया : ट्रेन से कटकर अधेड़ की मौत, शिनाख्त में करे जीआरपी की मदद
सहायक अध्यापिका बनते ही पति को ठुकराया, बीएसए ने किया सस्पेंड