रामायण : ट्वीट पर मचा हंगामा तो 'राम' ने कही ये बात

रामायण : ट्वीट पर मचा हंगामा तो 'राम' ने कही ये बात


मुम्बई। जाने-माने एक्टर अरुण गोविल को रामानंद सागर के सीरियल रामायण से देशभर में खूब पहचान मिली। सभी उन्हें भगवान के स्वरूप मानने लग गए थे और आज भी मानते हैं। पिछले कुछ समय से अरुण अपने एक बयान को लेकर सुर्खियों में चल रहे हैं। उन्होंने एक इंटरव्यू के दौरान पूछे गए सवाल के जवाब में कहा था कि उन्हें कभी किसी सरकार ने सम्मान नहीं दिया। तभी से ही उनके इस बयान पर सोशल मीडिया पर रिएक्शन्स की भरमार लगी हुई है। मगर अब एक्टर ने खुद एक नए ट्वीट में ये कह दिया है कि उन्हें कोई भी सम्मान नहीं चाहिए।

नई ट्वीट

एक्टर ने ट्विटर पर लिखा है, मेरा मंतव्य, प्रश्न का उत्तर देना था। कोई अवार्ड पाने की आकांक्षा नहीं थी। हालांकि राजकीय सम्मान का अपना अस्तित्व होता है, पर दर्शकों के प्यार से बड़ा कोई अवार्ड नहीं होता जो मुझे भरपूर मिला है। आप सभी के असीम प्रेम के लिए सप्रेम धन्यवाद।

यह रही पुरानी ट्वीट

बता दें कि लॉकडाउन की वजह से दूरदर्शन पर एक बार फिर से रामायण का प्रसारण चल रहा है. इसने कास्ट की पॉपुलैरिटी और बढ़ रही है। अरुण गोविल कई सारे इंटरव्यूज दे रहे हैं। कुछ दिन पहले ही एक इंटरव्यू के दौरान उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा था कि 'चाहे कोई राज्य सरकार हो या केंद्र सरकार, मुझे आज तक किसी सरकार ने कोई सम्मान नहीं दिया है। मैं उत्तर प्रदेश से हूं, लेकिन उस सरकार ने भी मुझे आज तक कोई सम्मान नहीं दिया। और यह्रां तक कि मैं पचास साल से मुंबई में हूं, लेकिन महाराष्ट्र की सरकार ने भी कोई सम्मान नहीं दिया।' इसके बाद से लोग टीवी के राम को सम्मान दिलाने के पक्ष में बात करने लग गए थे।

Related Posts

Post Comments

Comments

Latest News

आज फादर्स यानी बाबूजी के अपडेट वर्जन खातिर खास दिन ह आज फादर्स यानी बाबूजी के अपडेट वर्जन खातिर खास दिन ह
पापा-मम्मी अउरी बाबूजी-माई के बीच वाला जेनरेशन में जनम लिहल आ पलल-बढ़ल लाेगन के दरद अलगे हाेला। ऊ 80-90 के...
बलिया में गंगा दशहरा पर भक्तों ने लगाई आस्था की डुबकी, चहुंओर गूंजा हर-हर गंगे
जी हां ! फिल्मों को छोड़ कहीं नहीं देखें होंगे ऐसी शादी
बलिया : आज इन इलाकों में दो घंटे बाधित रहेगी बिजली, देखें लिस्ट
16 जून 2024 : कैसा रहेगा अपना आज, पढ़ें दैनिक राशिफल
बलिया के इस गांव में कुछ यूं दिखी दबंगई
अंत: जनपदीय पारस्परिक स्थानांतरण वाले शिक्षक जल्द होंगे कार्यमुक्त, देखें बलिया BSA द्वारा जारी कार्यक्रम