आज कविता अपने बलिया के नाम लिखता हूं...

आज कविता अपने बलिया के नाम लिखता हूं...


मेरा शहर बलिया

आज कविता अपने जनपद बलिया के नाम लिखता हूं,
महर्षि भृगु के तपो भूमि, गंगा घघरा का मिलन स्थान लिखता हूं।
जहां जन्में मंगल पांडे और जय प्रकाश नारायण जैसे क्रान्तिकारी, 
उस धरती को आज अपना प्रणाम लिखता हूं।
अपने पंक्तियों को यहां के साहित्यकार हजारी प्रसाद द्विवेदी, अमरकांत और केदारनाथ सिंह के नाम करता हूं।
पाये थे सन् 42 में सबसे पहले आजादी,
उस बागी बलिया के कहानी सरेआम करता हूं।
ददरी मेला, बालेश्वर मंदिर, सुरहाताल, चैनराम बाबा के साथ कारो धाम लिखता हूं।
चन्द्रशेखर यूनिवर्सिटी, सतीश चन्द्र, टाउन डिग्री, कुंवर सिंह और गुलाबदेवी जैसे शिक्षण संस्थान लिखता हूं।
आज मैं कविता अपने जनपद बागी बलिया के नाम करता हूं।

तुलसी सोनी
घोड़हरा
, बलिया

Post Comments

Comments

Latest News

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने साधा सपा पर निशाना डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने साधा सपा पर निशाना
बलिया : उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने बैरिया विधानसभा क्षेत्र के तालिबपुर में विशाल जनसभा को सम्बोधित किया। लोगों...
बलिया में पबजी गेम के इवेंट पर बवाल, युवक को सुलाया मौत की नींद
बलिया : गंगा में डूबने से युवक की दर्दनाक मौत, मचा कोहराम
अंतिम संस्कार के लिए नहीं थे पैसे, 3 दिन घर में रखी लिव-इन पार्टनर की लाश, फिर...
पूर्व मंत्री नारद राय के बयान पर सपा विधायक रिजवी का करारा पलटवार, बोले...
गृहमंत्री अमित शाह से पूर्व मंत्री नारद राय की मुलाकात, बढ़ी बलिया की राजनीतिक तपिश
बलिया और तालिबपुर के बीच खेला गया श्री बजरंगबली क्रिकेट प्रतियोगिता का फाइनल मैच