मां ! तुझ पर फूल चढ़ाएं कैसे, तुम तो स्वयं कमल होती हो...

मां ! तुझ पर फूल चढ़ाएं कैसे, तुम तो स्वयं कमल होती हो...


मेरी ही यादों में खोई
अक्सर तुम पागल होती हो
मां तुम गंगा-जल होती हो।
मां तुम गंगा-जल होती हो।

जीवन भर दुःख के पहाड़ पर
तुम पीती आंसू के सागर।
फिर भी महकाती फूलों-सा
मन का सूना संवत्सर।
जब-जब हम लय गति से भटकें
तब-तब तुम मादल होती हो।

व्रत, उत्सव, मेले की गणना,
कभी न तुम भूला करती हो।
सम्बन्धों की डोर पकड कर,
आजीवन झूला करती हो।
तुम कार्तिक की धुली चाँदनी से,
ज्यादा निर्मल होती हो।

पल-पल जगती-सी आंखों में,
मेरी खातिर स्वप्न सजाती।
अपनी उमर हमें देने को,
मंदिर में घंटियाँ बजाती।
जब-जब ये आँखें धुंधलाती,
तब-तब तुम काजल होती हो।

हम तो नहीं भगीरथ जैसे,
कैसे सिर से कर्ज उतारें।
तुम तो खुद ही गंगाजल हो,
तुमको हम किस जल से तारें।
तुझ पर फूल चढ़ाएं कैसे,
तुम तो स्वयं कमल होती हो।

बिट्टू कुमार पटेल 
कंप्यूटर ऑपरेटर बेलहरी

Post Comments

Comments

Latest News

बलिया में पूर्व विधायक सुरेन्द्र सिंह समेत सात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज बलिया में पूर्व विधायक सुरेन्द्र सिंह समेत सात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज
शिवदयाल पांडेय मनन की रिपोर्ट बैरिया, बलिया : बैरिया थाना क्षेत्र अंतर्गत कर्णछपरा गांव के सामने एनएच 31 पर राघव...
आचार संहिता के उल्लंघन में फंसे मतदान अधिकारी बने सहायक अध्यापक, बीएसए ने किया सस्पेंड
बलिया में गृह मंत्री अमित शाह ने भरी हुंकार, बोले...
माफी मांगकर जा रहे ट्रैक्टर चालक को पीट-पीट कर मार डाला
बलिया : अपहरण कर नाबालिग लड़की से दुष्कर्म, युवक गिरफ्तार
बलिया : गलत काम में दो युवक गिरफ्तार
बृजभूषण सिंह के सांसद प्रत्याशी बेटे करण भूषण के काफिले की कार ने 4 को रौंदा, 2 युवकों की मौत