पैसा निकालने पहुंची महिला को देखकर भौंचक रह गए बैंककर्मी

पैसा निकालने पहुंची महिला को देखकर भौंचक रह गए बैंककर्मी


सारण। एक साल पहले मृत घोषित महिला अचानक सामाजिक सुरक्षा के पैसे निकालने बैंक पहुंची तो बैंककर्मी भौंचक रह गए। फिर हिम्मत कर पूछा, आप तो मर चुकी थीं फिर जिंदा कैसे हो गईं ? यह सुनकर महिला के तो होश उड़ गए। फिर बैंककर्मियों ने बैंक की फाइल से मृत्यु प्रमाणपत्र निकाल कर देखा और फोटो मिलाया तो वह उसी महिला की थी।

मामला बनियापुर प्रखंड के सहाजितपुर थाना क्षेत्र स्थित धवरी पंचायत का है। पंचायत के सरपंच ने उक्त महिला का मृत्यु प्रमाण-पत्र अधिकारिक लेटर पैड पर जारी किया था। उक्त महिला स्थानीय थाना क्षेत्र के धवरी टोला रामनगरी निवासी धनेश्वर रावत की पत्नी चानो देवी बताई गई है।

चानो देवी जब लॉकडाउन के दौरान अपने जनधन खाते से पैसा निकालने गई तो उन्हें कुछ ऐसा ही जवाब मिला। अब चानो को ये सबूत देना पड़ रहा है कि वह जिंदा हैं। वह ग्रामीण बैंक के सीएसपी पर गई तो संचालक ने उनके खाते को बंद बताया। महिला ने कारण पूछा तो बताया कि कागजात के हिसाब से वह मृत है। महिला सरपंच पूनम देवी ने लेटरपैड पर 09.10.2019 को उसे मृत बताया था।

इस मामले में सरपंच पूनम देवी ने बताया कि यह कारनामा उनके छोटे पुत्र ने किया है। उनका हस्ताक्षर भी पुत्र ने ही कर दिया है। इस पत्र की कोई जानकारी सरपंच के पास उपलब्ध भी नहीं है, जिसे जारी किया गया है। सरपंच के लेटर हेड में लिखा गया है कि चानो की मौत 9 अक्टूबर 2019 को हो चुकी है।

Related Posts

Post Comments

Comments

Latest News

बलिया : जादू-टोना के चक्कर में महिला की हत्या, दो रेफर बलिया : जादू-टोना के चक्कर में महिला की हत्या, दो रेफर
बलिया : रेवती थाना क्षेत्र अंतर्गत हरिहाकलां में शनिवार की रात जादू टोना के चक्कर में दो पट्टीदारों के बीच...
फूड प्वाइजनिंग से दुल्हन की बहन समेत दर्जनों लोग बीमार
वीडियो कॉल पर 200 रुपये में 5 मिनट गंदी बातें, पकड़ी गईं 6 'ड्रीमगर्ल्‍स'
करके सीखों कार्यक्रम : जूस बनाने से लेकर बच्चों को मिलेगी पंक्चर और पकौड़ा बनाने की ट्रेनिंग
डोनाल्ड ट्रंप की रैली में फायरिंग : जानलेवा हमले में बाल-बाल बचे पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति, मारा गया शूटर
शिक्षकों की ऑनलाइन हाजिरी पर यूपी के पूर्व बेसिक शिक्षा मंत्री रामगोविन्द चौधरी ने सरकार को दी नसीहत
कार्यकर्ताओं का मान सम्मान सर्वोपरि : केतकी सिंह