एमडीएम में 6.80 लाख का गबन, हेडमास्टर सस्पेंड

एमडीएम में 6.80 लाख का गबन, हेडमास्टर सस्पेंड

ज्ञानपुर : चार साल में मध्याह्न भोजन योजना (MDM) में नियमों के विरुद्ध जाकर 6.80 लाख रुपये की हेराफेरी मामले में बीएसए भूपेंद्र नारायण सिंह ने प्राथमिक विद्यालय तुलापुर के हेडमास्टर अनुराग तिवारी को सस्पेंड कर दिया है। वहीं, निलंबित हेडमास्टर को डीघ बीआरसी से अटैच किया गया है। गबन के मामले में दो सदस्यीय टीम की जांच रिपोर्ट मिलने पर बीएसए ने यह कार्रवाई की है। 

गोपीगंज के सुजातपुर गांव निवासी पुनीत कुमार ने कुछ महीने पूर्व आईजीआरएस पर गबन की शिकायत की थी। इसमें आरोप लगाया था कि प्राथमिक विद्यालय तुलापुर में हेडमास्टर मध्याह्न भोजन योजना में धांधली कर रहे हैं। डीएम के निर्देश पर बीएसए ने जांच के लिए दो सदस्यीय टीम बनाई। टीम ने वर्ष 2020 से अप्रैल 2024 तक मध्याह्न भोजन योजना के एक-एक अभिलेखों की जांच की। इसमें पाया गया कि 17 सितंबर 2020 से चार अप्रैल 2024 तक मिड डे मील योजना में कुल आठ लाख 79 हजार 449 रुपये भेजे गए। इसमें तीन लाख 92 हजार 108 व्यय होना चाहिए, जबकि चार लाख 87 हजार 313 शेष रहना चाहिए, लेकिन हेडमास्टर अनुराग तिवारी ने छह लाख 80 हजार स्वयं निकाल लिए।

यह निकासी गबन की श्रेणी में आती है। यही नहीं कोरोना महामारी के दौरान कन्वर्जन कॉस्ट और खाद्यान्न की राशि अभिभावकों के खाते में भेजी जानी थी, लेकिन कुछ को छोड़कर अन्य के पैसे में गड़बड़ी की गई। विद्यालय प्रबंध समिति के खातों का विवरण मांगने पर उपलब्ध नहीं कराया गया। बैंक ऑफ बड़ौदा से स्टेटमेंट लेने पर पता चला कि जिस दिन धनराशि भेजी गई। उसके अगले दिन ही सिंगल वेंडर आईडी से इसे निकाल लिया गया।

फर्जी एसआइटी अधिकारी बन कर कई सहायक अध्यापकों को लगाया चूना

यह भी पढ़े Gonda Rail Accident : आज निरस्त रहेगी चार ट्रेनें, तीन का बदला रूट

यही नहीं निलंबित हेड मास्टर अनुराग तिवारी के खिलाफ फर्जी एसआईटी अधिकारी बनकर सहायक अध्यापकों को चूना लगाने का भी आरोप है। इस मामले में लखनऊ में उन पर कई मुकदमें भी दर्ज हैं। स्कूल को डिजिटल बनाने के लिए एक टैबलेट दिया गया था। इसे उन्होंने गायब कर दिया। शिकायतों से विभाग की छवि धूमिल होते देख और गबन का आरोप सही मिलने पर बीएसए ने हेडमास्टर को निलंबित कर दिया।

यह भी पढ़े कलेक्टर के पास पहुंचा युवक, प्रेमिका से मिलने का मांगा परमिशन

नहीं माना कोर्ट का आदेश, माह भर बाद केस दर्ज नहीं

यह भी पढ़े प्यार में पागल मां बन गई कसाई, गला दबाकर कर दी बेटे की हत्या ; ऐसे खुला राज

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, अक्सर विवादों में रहने वाली गोपीगंज कोतवाली पुलिस अब एक मामले में फिर चर्चा में है। ताजा मामला कोर्ट के आदेश का है। मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सबिहा खातून ने एसआइटी अफसर बनकर शिक्षकों से अवैध वसूली करने वाले तुलापुर रोही के सहायक अध्यापक अनुराग तिवारी के खिलाफ महीने भर पूर्व मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया, लेकिन स्थानीय पुलिस ने अब तक कोई कार्रवाई नहीं की। ऐसे में यह सवाल उठना लाजिमी है कि आखिर पुलिस कोर्ट के आदेश पर भी केस क्यों दर्ज नहीं कर रही है।

Post Comments

Comments

Latest News

गरीबी और बदनसीबी से जूझ रहे परिवार के बीच 'राहत' लेकर पहुंचा बलिया का मदद संस्थान गरीबी और बदनसीबी से जूझ रहे परिवार के बीच 'राहत' लेकर पहुंचा बलिया का मदद संस्थान
बलिया : धर्मपुरा गांव निवासी ओमप्रकाश राजभर की असामयिक मौत 16 जून को हो गयी थी। महज 40 साल की...
क्या सच में केरल सरकार ने की है अपने 'विदेश सचिव' की नियुक्ति, मुख्य सचिव ने जारी किया यह बयान
बलिया में मासूम बालिका से दुष्कर्म, 28 साल के आरोपी युवक को मिली 25 साल की सजा
बलिया पुलिस के हत्थे चढ़ा युवक, संगीन अपराध में भेजा गया जेल
सावन में घर बैठे स्पीड पोस्ट से प्राप्त करें श्री सोमनाथ आदि ज्योतिर्लिंग मंदिर का प्रसाद
बलिया डीएम का आदेश, मुख्यालय न छोड़ें अधिकारी
डेढ़ सौ अध्यापकों के खिलाफ बलिया बीएसए की बड़ी कार्रवाई, इन हेडमास्टरों से भी जबाब-तलब