बागी धरती से निकली आवाज 'फेर लो मुंह तोड़ लो रिश्ते...'

बागी धरती से निकली आवाज 'फेर लो मुंह तोड़ लो रिश्ते...'


फेर लो मुंह तोड़ लो रिश्ते सभी बाजार से
इश्क करना सीख लो, घर के दरो-दीवारों से

घर को दोजख मत कहो, घर ही बचाएगा तुम्हें
धूप से, लू से, कोरोना वायरस से

रेस ये बिल्कुल अलहदा किस्म की है साथियों
जीतना मुमकिन नहीं इस रेस को रफ्तार से

बस जरा ये धुंध छट जाने दो तुम, फिर शौक से 
चूम लेना रौशनी के गेसुओं को प्यार से

दुःख भले ही हिमालय-सा हो मगर कद में कभी
हो नहीं सकता बड़ा इंसान की किरदार से

चांद का मुद्दा जरूरी है कि मसला भूख का
पूछिए जाकर किसी मजदूर के परिवार से

कारखाना बंद है तो बंद रहने दो 'शशी'
जां से ज्यादा है मोहब्ब्त या कारोबार से

शशि प्रेमदेव 'कवि'
बलिया
Tags: गजल

Related Posts

Post Comments

Comments

Latest News

महाशिवरात्रि विशेष : शिव पूजन की कुछ रहस्यमयी बातें महाशिवरात्रि विशेष : शिव पूजन की कुछ रहस्यमयी बातें
Mahashivratri 2024 : भारतवर्ष में देवाधिदेव आशुतोष भगवान शिव की पूजा सबसे अधिक की जाती है। वैसे तो भगवान शिव...
4 मार्च का राशिफल : जानिएं क्या कहते है आपके सितारें
बलिया पहुंचे मंत्री एके शर्मा ने किया कई विकास कार्यो का लोकार्पण और शिलान्यास, बोले- ताजा हो गई बचपन की यादें
बलिया के लाल को मिला श्याम सुन्दर दास पुरस्कार, मुस्कुराया साहित्य जगत 
बलिया : बोर्ड परीक्षा में ड्यूटी से कतरा रहे शिक्षकों के लिए बुरी खबर, बीएसए ने जारी किया यह निर्देश
बलिया में चोरी की बाइक पर फर्राटा भर रहा था युवक, पड़ी पुलिस की नजर
बलिया में दबंगई का शिकार हुआ युवक, मौत की सूचना मिलते ही हरकत में आई पुलिस