बलिया : लोगों को खूब पसंद आ रही शिक्षक विंध्याचल सिंह की 'तरक्की'

बलिया : लोगों को खूब पसंद आ रही शिक्षक विंध्याचल सिंह की 'तरक्की'


तरक्की
मेरा गांव भी अब धीरे धीरे
शहर होने लगा है,
तेज तरक्की का इधर भी अब
असर होने लगा है।
बाग बगीचे ताल तलैया न जाने कहां
लुप्त होते जा रहे,
कांक्रीट के जंगलों का नीरस
खंडहर होने लगा है।
पहले जो तैरती थी यहां हवाओं में
एक मीठी सी खुशबू,
जाने किधर से आई है सड़ांध ये
सब जहर होने लगा है।
पहले जो हुआ करते थे साझे से
सुख दुःख अपने,
खास भाई से भाई भी अब अपने
बेखबर होने लगा है।
विंध्याचल सिंह
शिक्षक, UPS बेलसरा कम्पोजिट चिलकहर
बलिया (उ.प्र)

Post Comments

Comments

Latest News

29 मई 2024 : कैसा रहेगा आज का अपना दिन, पढ़ें दैनिक राशिफल 29 मई 2024 : कैसा रहेगा आज का अपना दिन, पढ़ें दैनिक राशिफल
मेष आज का दिन आपके लिए ऊर्जावान रहने वाला है।  आपके अंदर अतिरिक्त ऊर्जा रहने के कारण आप काम को...
डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने साधा सपा पर निशाना
बलिया में पबजी गेम के इवेंट पर बवाल, युवक को सुलाया मौत की नींद
बलिया : गंगा में डूबने से युवक की दर्दनाक मौत, मचा कोहराम
अंतिम संस्कार के लिए नहीं थे पैसे, 3 दिन घर में रखी लिव-इन पार्टनर की लाश, फिर...
पूर्व मंत्री नारद राय के बयान पर सपा विधायक रिजवी का करारा पलटवार, बोले...
गृहमंत्री अमित शाह से पूर्व मंत्री नारद राय की मुलाकात, बढ़ी बलिया की राजनीतिक तपिश