बसंत बहार, प्यार भरे ठुमका : बलिया के शिक्षक की यह कविता आपको कर देगी बसंत-बसंत

बसंत बहार, प्यार भरे ठुमका : बलिया के शिक्षक की यह कविता आपको कर देगी बसंत-बसंत

उपायन

विवश हुआ मन, देख दृश्य
अमन चैन निहार निहारूं
रंग ऊपर है रंगों का पहरा
हरे रंग आंचल हाथ कंगना।
मंजर डाल, मतवाला अमरबेल
झंझावात दूर झरने का पानी
अद्भुत बना यह माह सुहाना
पार नदी कोयल किलकारी
सरसों फू्ल प्राकृतिक झुमका
पात गिरे, कलियों का आना
बसंत बहार, प्यार भरे ठुमका।
गोंद सजाये, होरिल ललना
महका सदन रमणीक कंगना
मास पठाय हुआ दूर बवंडर
मन प्रफुल्लित समय उद्वेलित
बन-बाग चहुदिश अभिनन्दन।

होरिल : नवजात शिशु
ललना : सुन्दर स्त्री

R.kant, शिक्षक, बलिया

Post Comments

Comments

Latest News

बलिया : दिवंगत Teacher के परिजनों को सहयोग राशि सौंपते हुए शिक्षकों ने दिलाया यह भरोसा बलिया : दिवंगत Teacher के परिजनों को सहयोग राशि सौंपते हुए शिक्षकों ने दिलाया यह भरोसा
Ballia News : शिक्षा क्षेत्र हनुमानगंज के कंपोजिट विद्यालय मिड्ढा के प्रभारी प्रधानाध्यापक अली अख्तर खान के असामयिक निधन से...
बलिया से घोषित भाजपा प्रत्याशी नीरज शेखर की जन आशीर्वाद यात्रा 15 को, देखें पूरा शेड्यूल
बलिया : प्राथमिक शिक्षक संघ ने उठाई विद्यालय संचालन के समय में परिर्वतन की मांग, डीएम को लिखा पत्र
13 अप्रैल का राशिफल : आज कैसा रहेगा मेष से लेकर मीन राशि वालों का दिन, पढ़िएं यहां
बलिया में बाइक सवार बदमाशों ने दो युवकों को मारी गोली, मचा हड़कम्प
बलिया : महिला गिरफ्तार, तीन की तलाश में छापेमारी ; ये है पूरा मामला
कारोबारी की बलि : हत्यारी महिला बोली- 5 दिन से सपने में नरबलि मांग रही थी माता