दिल्ली से लखनऊ तक बस बलिया ही बलिया

दिल्ली से लखनऊ तक बस बलिया ही बलिया


रसड़ा/बलिया। पूर्वांचल के पूर्वी छोर पर बसा बलिया यूं तो हमेशा चर्चा में रहता है। मगर इन दिनों बलिया की चर्चा दिल्ली से लखनऊ तक हो रही है। कारण लोकसभा चुनाव है। कभी देश को प्रधानमंत्री देने वाला बलिया  लोकसभा सीट सही मायनों में अपने रहनुमा की बांट देख रहा है। जहां एक ओर चुनावी रणभूमि में राजनैतिक दल एक दूसरे के सामने खड़े  है वही पूर्वांचल के बलिया लोकसभा क्षेत्र-72 सीट से भाजपा के अलावा किसी भी अन्य पार्टी के उम्मीदवार अभी तक मैदान में नहीं दिखाई पड़ रहे हैं। यहीं घटना बलिया को लखनऊ वाया दिल्ली चर्चा में रखे है।

विदित हो कि सोमवार से नामंकन शुरु हो गयी,लेकिन दुर्भाग्य की बलिया लोक सभा से भाजपा के प्रत्याशी वीरेंद्र सिंह मस्त के अलावा उनके सामने अभी तक किसी भी अन्य पार्टियों ने अपने किसी भी प्रत्याशी के नाम की घोषणा नहीं की है। सोमवार दिन पंडितों के अनुसार शुभ नहीं होने के कारण किसी ने नामांकन नहीं किया।  वही भाजपा प्रत्याशी के सामने इस चुनावी रणभूमि से लड़ेगा खुद को जनता के बीच रख कर प्रचार प्रसार और जनसम्पर्क में जी जान से लगे है।  बहरहाल जो भी हो 29 अप्रैल तक बलिया लोक सभा के लिए नामांकन की आखरी तारीख है। अब देखना होगा कि कौन सी पार्टी भाजपा के सामने किस प्रत्याशी के नाम की घोषणा करती है ताकि बलिया लोक सभा चुनाव के  रणभूमि में दो दो हाथ करने के लिए कौन आता है।

रिपोर्ट-पिंटू सिंह

Post Comments

Comments

Latest News

बलिया के शिक्षामित्रों की हुंकार, कमेटी की रिपोर्ट लागू करें सरकार : पंकज  बलिया के शिक्षामित्रों की हुंकार, कमेटी की रिपोर्ट लागू करें सरकार : पंकज 
बलिया : सात वर्षों पहले आज ही के दिन सुप्रीम कोर्ट ने शिक्षामित्रों का समायोजन रद्द किया था। कथित रूप...
बलिया में ADG और DIG का छापा : अवैध वसूली का भंडाफोड़, नरही थानाध्यक्ष के साथ कोरंटाडीह पुलिस चौकी सस्पेंड ; दो पुलिसकर्मियों समेत 18 गिरफ्तार
बलिया के चर्चित चौराहा पर एडीजी का छापा, हिरासत में लिए गये तीन पुलिसकर्मियों समेत कई लोग
बलिया में पेड़ से टकराई बाइक, दो युवकों की दर्दनाक  मौत ; मचा कोहराम
25 जुलाई 2024 : अपने लिए कैसा रहेगा गुरुवार, पढ़ें दैनिक राशिफल
बलिया से घर लौट रहे थे विशाल, रास्ते से झपट ले गई मौत
बलिया बीएसए ने ऐसे स्कूलों के खिलाफ छेड़ा अभियान, 6 विद्यालयों पर लगा ताला ; बढ़ी औरों की बेचैनी