तब समझ आता है मां बिना जिन्दगी कितनी अधूरी होती है

तब समझ आता है मां बिना जिन्दगी कितनी अधूरी होती है


मां तुझे प्रणाम
ईश्वर भी ना सुलझा पाए ऐसी पहेलियां होती है माँ,
बेटों की दोस्त तो बेटियों की सहेलियाँ होती है माँ।
तेरी हल्की सी चोट पर दर्द उसे भी होता है,
कलेजा फटता है उसका जब तू कभी रोता है,
बिना शिकवा शिकायत के जो मिले खाती थी, वो माँ है,
खुद कमजोर थी लेकिन अपना दूध पिलाती थी, वो माँ है
मत भूलो जो तेरी गलती पर भी पूरी दुनिया से लड़ जाती थी, वो माँ है
जो कभी ना मिल पाए माँ से जब ऐसी दूरी होती है
तब समझ आता है माँ बिना जिन्दगी कितनी अधूरी होती है,
माँ परिवार ही नहीं पूरी दुनिया की धुरी होती है
जो पूजता है माँ के चरणों को उसकी सारी मुरादें पूरी होती है।

शंकर कुमार रावत
शिक्षक
मोहल्ला-बड्ढा, पोस्ट-सिकन्दरपुर, बलिया

Post Comments

Comments

Latest News

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने साधा सपा पर निशाना डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने साधा सपा पर निशाना
बलिया : उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने बैरिया विधानसभा क्षेत्र के तालिबपुर में विशाल जनसभा को सम्बोधित किया। लोगों...
बलिया में पबजी गेम के इवेंट पर बवाल, युवक को सुलाया मौत की नींद
बलिया : गंगा में डूबने से युवक की दर्दनाक मौत, मचा कोहराम
अंतिम संस्कार के लिए नहीं थे पैसे, 3 दिन घर में रखी लिव-इन पार्टनर की लाश, फिर...
पूर्व मंत्री नारद राय के बयान पर सपा विधायक रिजवी का करारा पलटवार, बोले...
गृहमंत्री अमित शाह से पूर्व मंत्री नारद राय की मुलाकात, बढ़ी बलिया की राजनीतिक तपिश
बलिया और तालिबपुर के बीच खेला गया श्री बजरंगबली क्रिकेट प्रतियोगिता का फाइनल मैच