Home » धर्म-कर्म

धर्म-कर्म

खरमास समाप्त, अब शुरू होगी सहालग, यहां देखें शुभ मुहूर्त

बलिया। एक माह से जारी खरमास के बाद 14-15 अप्रैल से अच्छे दिनों की शुरुआत होने जा रही है। इसी के साथ विवाह व अन्य मांगलिक कार्यों के लिए सहालग की शुरुआत हो जाएगी। बैंड बाजा के साथ बारातों की धूम मचेगी। अप्रैल के दूसरे पखवाड़े से शुरू हो रही सहालग का दौर जुलाई में देवताओं केसोने से पहले तक …

Read More »

योग-ध्यान की देवी हैं मां कूष्मांडा, पूजा से भय का होता है नाश

धर्म-कर्म। कूष्मांडा देवी का चौथा स्वरूप है। ग्रंथों के अनुसार इन्हीं देवी की मंद मुस्कार से अंड यानी ब्रह्मांड की रचना हुई थी। इसी कारण इनका नाम कूष्मांडा पड़ा। ये देवी भय दूर करती हैं। भय यानी डर ही सफलता की राह में सबसे बड़ी मुश्किल होती है। जिसे जीवन में सभी तरह के भय से मुक्त होकर सुख से …

Read More »

नवरात्र : बलिया के इस स्थान पर इसलिए जुटती है भीड़

मनियर, बलिया। नवरात्र महीने में जहां मां दुर्गा की मंदिरों में भीड़ लगती है वही ऐसे स्थानों पर भी अपार भीड़ होती है, जहां पर प्रेत आत्माओं से लोगों को मुक्ति मिलती है। उन्हीं स्थानों में से उत्तर प्रदेश के बलिया जनपद मुख्यालय से करीब 30 किलोमीटर उत्तर दिशा में स्थित मनियर नवका ब्रह्म का स्थान है, जहां पर नवरात्रि …

Read More »

मां ब्रह्मचारिणी के इस स्तोत्र का पाठ करने से दूर होती हैं मुश्किलें

ब्रह्मचारिणी देवी की पूजा नवरात्रि के दूसरे दिन की जाती है। ब्रह्मचारिणी देवी के दोनो हाथों मे अक्षमाला और कमंडल होता है। माँ ब्रह्मचारिणी सदैव अपने भक्तो पर कृपादृष्टि रखती है एवं सम्पूर्ण कष्ट दूर करके अभीष्ट कामनाओ की पूर्ति करती है। ब्रह्मचारिणी देवी मां दुर्गा का द्वितीय रूप है। ब्रह्मचारिणी का अर्थ तपश्चारिणी हैं यानी तपस्या करने वाली, इन्होंने …

Read More »

नवरात्र: नौ दुर्गा, यानि दिव्य नौ औषधियां

बलिया। पृथ्वी द्वारा सूर्य की परिक्रमा के काल में एक साल की चार संधियां है। मार्च व सितम्बर में पड़ने वाली गोल संधियों में दो मुख्य नवरात्र पड़ते है। इस समय रोगाणु आक्रमण की सर्वाधिक संभावना के कारण शरीर रोगग्रस्त होता है। इस दौरान स्वस्थ्य रहने, शरीर को शुद्ध रखने तथा तन-मन को निर्मल रखने के लिए की जाने वाली …

Read More »

जल में मिश्री मिलाकर सूर्य को चढ़ाएं और बोलें 2 में से 1 मंत्र

ज्योतिष में सूर्यदेव को सभी ग्रहों का राजा माना जाता है। इसी वजह से सूर्य की पूजा से कुंडली के सभी ग्रह दोष दूर हो सकते हैं। सूर्य को मनाने का सबसे सरल और कारगर उपाय है रोज सुबह सूर्य को अर्घ्य अर्पित करना। जो लोग ये छोटा सा काम रोज करते हैं, वे घर-परिवार और समाज में मान-सम्मान प्राप्त …

Read More »

बलिया में बोले सतश्री महाराज-इच्छाओं की वृद्धि दुख का कारण

बलिया। नगर के रामलीला मैदान में सूरत, गुजरात स्वामी नारायण मंदिर के प्रमुख संत पूज्यनीय सतश्री महाराज ने वाल्मिकी रामायण कथा के दूसरे दिन कहा कि महर्षि वाल्मिकी ने ब्रह्मा जी एवं नारद जी की प्रेरणा से वाल्मिकी रामायण की रचना की। इसका पहली बार वाचन लव-कुश ने किया। इसमें रामजी के आदर्श एवं प्रेरणादायी चरित्र का वर्णन है। कहा …

Read More »

धर्म से हटकर विकास की कल्पना बेमानी : जीयर स्वामी

बक्सर। संसार में जो भी व्यक्ति अपने धर्म से हटकर जीना चाहता है उसका विनाश होना तय है। ऐसे लोगों के जीवन में कभी विकास नहीं हो सकता। व्यक्ति के लिए न सिर्फ धर्म की मर्यादा का पालन करना बल्कि संदेशों पर अमल करना भी बेहद जरूरी है। संसार में कोई ऐसा नहीं है जो यह कह सके कि उसने …

Read More »

जैसी सोच… उसी रूप में दिखेंगे भोलेनाथ

देवों के देव महादेव को भोलेनाथ, शंकर, महेश, रूद्र, नीलकंठ, गंगाधार, महाकाल, आदिदेव, किरात, चंद्रशेखर, जटाधारी, विनागनाथ, मृत्युंजय, त्रयंबक, महेश, विश्वेश, महारुद्र, उमापति, काल भैरव, भूतनाथ इत्यादि कई नामों से जाना जाता है। शिवरात्रि क्यों मनाई जाती है ? पौराणिक कथाओं के अनुसार फाल्गुन मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी की रात भगवान भोलेनाथ और मां शक्ति का मिलन हुआ …

Read More »

Bhrigu Mandir : होगी 51 दिवसीय संकीर्तन की पूर्णाहुति, होगा स्वामी जी का दर्शन

बलिया। भृगु मंदिर में चल रहे 51 दिवसीय संकीर्तन की पूर्णाहुति 5 मार्च को होगी। इस अवसर पर पूज्य स्वामी श्री हरिहरानंद जी महाराज भी आशीर्वचनन देने हेतु पधारेंगे। 13 जनवरी 2019 से प्रारम्भ इस संकीर्तन का 51 दिन 4 मार्च को न सिर्फ पूरा हो जा रहा है, बल्कि बलिया नगर में आयोजित सास्वतखण्ड संकीर्तन का भी एक वर्ष …

Read More »
error: Content is protected !!
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.