प्रभारी दरोगा और सिपाहियों के साथ भाजपा नेता की दबंगई

प्रभारी दरोगा और सिपाहियों के साथ भाजपा नेता की दबंगई


वाराणसी। शुक्रवार की रात जिला पंचायत सदस्य सुरेंद्र पटेल तथा परिवार के सदस्यों ने दारोगा और सिपाही के साथ मारपीट की। पुलिस ने जिला पंचायत सदस्य सुरेंद्र पटेल व भाई बिंदू पटेल को हिरासत में ले लिया है।लंका थाना की सुंदरपुर पुलिस चौकी के प्रभारी दरोगा और सिपाहियों के साथ मारपीट की जानकारी होते ही एसपी सिटी विकास चंद्र तिवारी, सीओ भेलूपुर समेत अन्य अफसर भी थाने पहुंच गए। सुंदरपुर चौकी प्रभारी ने पांच नामजद सुरेंद्र पटेल, भाई बिंदू पटेल, बेटा विकास पटेल, चचेरे भाई संतोष पटेल व अज्ञात लोगों के खिलाफ तहरीर दी। इस पर देर रात मारपीट, बलवा, जानलेवा हमला, लूट, सरकारी कार्य में बाधा सहित अन्य धारा में मुकदमा दर्ज किया गया। इससे पूर्व बड़ी तादाद में भाजपा नेता व अधिवक्ता भी थाने पर जुट गए थे। 

शुक्रवार की देर रात एक युवक ने पुलिस को सूचना दी कि सुंदरपुर में काशी विद्यापीठ के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष विकास पटेल व अन्य युवक किसी मुकदमे को लेकर उन पर दबाव बना रहे हैं। इस पर सुंदरपुर के कार्यवाहक चौकी प्रभारी सुनील गौड़ ने फैंटम दस्ते के सिपाही मनोज व अन्य को मौके पर भेजा। पुलिस के मुताबिक वहां सिपाहियों के पहुंचते ही विकास व उसके साथ के लोगों ने अनाप-शनाप बोलना शुरू कर दिया। 

उन लोगों ने मास्क नहीं पहना था, इसलिए दूर से ठीक से बात करने के लिए टोका गया। मास्क के लिए टोकना इतना बुरा लगा कि विकास और अन्य ने पुलिस वालों के साथ मारपीट शुरू कर दी। विकास ने अपने पिता सुरेंद्र पटेल को फोन किया। थोड़ी देर में सुरेंद्र 10 से 12 लोगों को साथ लेकर आये और पुलिसकर्मियों से मारपीट शुरू कर दी।

मामले की जानकारी चौकी प्रभारी सुनील गौड़ को हुई तो वह भी पहुंचे। दुस्साहसिक रूप से उनका भी कॉलर पकड़कर धक्कामुक्की और मारपीट शुरू कर दी गई। घटना की खबर लगते ही फोर्स पहुंच गई और भाजपा नेता और उसके बेटे को पकड़ कर थाने लाई। पुलिस के मुताबिक विकास नशे में था। 

लंका थाने में शुक्रवार की देर रात तक माहौल गरम था। थाने के अंदर पुलिस फोर्स खड़ी थी तो बाहर भाजपा नेता व कार्यकर्ताओं के साथ ही बड़ी तादाद में अधिवक्ता थे। इस दौरान भाजपा काशी क्षेत्र के मंत्री अशोक तिवारी के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल एसपी सिटी विकास चंद्र तिवारी से वार्ता के लिए थाने में पहुंचा तो नसीहत पाकर बैरंग लौट गया। एसपी सिटी ने कहा कि ऐसे मामले में पैरवी नहीं करनी चाहिए। हालांकि, इस मामले में अशोक तिवारी का कहना था। पुलिस की कार्रवाई उनको ठीक नहीं लगी। 

सुंदरपुर के जिस इलाके में हॉटस्पॉट घोषित था तो वहीं पर जिला महामंत्री सुरेंद्र पटेल का घर भी है। उनका बेटा घर के बाहर खड़ा था। सच है कि वह मास्क नहीं पहना था, लेकिन इस बेपरवाही के लिए कानूनी कार्रवाई करनी थी न ही उस पर सख्ती करते हुए मारपीट करना था। बताया कि फैंटम दस्ता ने भाजपा जिला महामंत्री सुरेंद्र पटेल के पुत्र को मारापीटा तो मामला बढ़ गया। बेटे को मार खाता देख सुरेंद्र भी बाहर निकल आए। इस पर पुलिस के साथ उनकी हाथापाई होने लगी। 

Related Posts

Post Comments

Comments

Latest News

बलिया में गंगा दशहरा पर भक्तों ने लगाई आस्था की डुबकी, चहुंओर गूंजा हर-हर गंगे बलिया में गंगा दशहरा पर भक्तों ने लगाई आस्था की डुबकी, चहुंओर गूंजा हर-हर गंगे
रामगढ, बलिया : ज्येष्ठ माह की शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को गंगा दशहरा के अवसर पर गंगा तट पर...
जी हां ! फिल्मों को छोड़ कहीं नहीं देखें होंगे ऐसी शादी
बलिया : आज इन इलाकों में दो घंटे बाधित रहेगी बिजली, देखें लिस्ट
16 जून 2024 : कैसा रहेगा अपना आज, पढ़ें दैनिक राशिफल
बलिया के इस गांव में कुछ यूं दिखी दबंगई
अंत: जनपदीय पारस्परिक स्थानांतरण वाले शिक्षक जल्द होंगे कार्यमुक्त, देखें बलिया BSA द्वारा जारी कार्यक्रम
रुद्रप्रयाग में बड़ा हादसा : अलकनंदा में गिरी ट्रेवलर, 13 की मौत ; कई घायल