PM Modi के संसदीय क्षेत्र के बच्चों का ऐसे भविष्य संवार रहा बेसिक शिक्षा विभाग

PM Modi के संसदीय क्षेत्र के बच्चों का ऐसे भविष्य संवार रहा बेसिक शिक्षा विभाग



वाराणसी। कोविड-19 के दृष्टिगत लॉक डाउन होने से समस्त परिषदीय प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालय बंद है। इसके चलते संपूर्ण जनपद में परिषदीय शिक्षण कार्य स्थगित है। इससे बच्चों का अधिगम स्तर प्रभावित हो रहा है। बच्चों के व्यवहार में परिवर्तन भी परिलक्षित हो रहा है। इसको देखते हुए बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा परिषदीय बच्चों को ई-लर्निंग, ऑनलाइन लर्निंग, व्हाट्सएप, फोन कॉल, दीक्षा, फेसबुक व यूट्यूब द्वारा उनके घर पर ही ऑनलाइन लर्निंग फॉर डिजिटल पाठ्यक्रम सामग्री मुहैया कराई जा रही है। इसके लिए जनपद स्तर पर ऑनलाइन एजुकेशन के लिए जो योजना प्रस्तावित है, उसके जरिये ऑनलाइन एजुकेशन विद्यालयों को कवर किया जाएगा।

बीएसए राकेश सिंह ने बताया कि इस कार्य को सकुशल सम्पन्न कराने के लिए विकास खंड स्तर पर खंड शिक्षा अधिकारी को नोडल अधिकारी नामित किया गया है। वही, जनपद स्तर पर इस कार्य के लिए समस्त जिला समन्वयक को विकासखंड वार नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। ऑनलाइन एजुकेशन की मॉनिटरिंग के लिए ऑनलाइन मॉनिटरिंग सेल व बेसिक एजुकेशन वाराणसी का गठन किया गया है। 



बीएसए ने निर्देशित है कि Basic EDU.onlineVaranasi एवं फेसबुक bsa innovative, innovative teachers WhatsApp group पर एआरजी/एआरपी के माध्यम से पाठ्य सामग्री, शिक्षण संबंधित वीडियो, फोटोग्राफ व अन्य सामग्री शेयर करें। समय-समय पर बीएसए एवं ऑनलाइन मॉनिटरिंग सेल द्वारा विकासखंड में चल रहे ऑनलाइन शिक्षण कार्य की समीक्षा निर्धारित प्रारूप पर की जाएगी। 

ऑन लाइन शिक्षण को ऐसे बनाएं प्रभावी

-जनपद स्तर पर गठित व्हाट्सएप ग्रुप Basic EDU.onlineVaranasi एवं फेसबुक bsa innovative, innovative teachers WhatsApp group, एआरजी/एआरपी ग्रुप पर समस्त शिक्षक, एआरपी/एसआरजी द्वारा पठन-पाठन संबंधित वीडियो को प्रेषित किया जाएगा।

-प्रत्येक विद्यालय द्वारा कक्षा व्हाट्सएप ग्रुप का निर्माण किया जाए, जिसमें उस विद्यालय के प्रधानाध्यापक सहित समस्त शिक्षक व निर्धारित कक्षा के बच्चों को जोड़ा जाए।

-अभिभावकों एवं छात्रों का मोबाइल नंबर खंड शिक्षा अधिकारी द्वारा QMC को उपलब्ध कराया जाएगा तथा स्वयं भी उन नम्बरों पर फोन कर मानीटरिंग की जायेगी। विद्यालयवार बने व्हाट्सएप ग्रुप में शिक्षण अधिगम संबंधी सामग्री को शेयर करने के अलावा बच्चों से संपर्क कर उसका आकलन और मूल्यांकन किया जाए।

-व्हाट्सएप ग्रुप के अतिरिक्त भी बच्चों के साथ वीडियो कॉलिंग, वॉइस कॉलिंग के साथ-साथ संभव वर्चुअल क्लासरूम, गूगल क्लासरूम की भी मदद ली जा सकती है।

-चुने हुए सराहनीय नवाचार प्रयासों को विकासखंड के प्रेरणा ग्रुप में भी प्रेषित किया जाए।

-ऑनलाइन लर्निंग के बेहतर समझ के लिए निष्ठा  प्रशिक्षण के माड्यूल संख्या 6 ( शिक्षण, अधिगम व आकलन में आईसीटी का समाकलन) की भी मदद दी जा सकती है।

-समस्त अध्यापक अपनी सुविधा अनुसार किसी भी समय ऑनलाइन शिक्षण कार्य कर सकते हैं।

-ऑनलाइन टीचिंग में उत्कृष्ट कार्य करने वाले शिक्षकों को एक्सीलेंसी अवार्ड से सम्मानित किया जाएगा। 

सभी डीसी बने नोडल

बीएसए राकेश सिंह ने बताया कि ऑनलाइन शिक्षण कार्य के सफल संचालन के लिए जिला समन्वयक विमल केसरी को नगर क्षेत्र, भोला विश्वकर्मा को आराजी लाइन एवं काशी विद्यापीठ, दुर्गावती सिंह को चिरईगांव, अभय सिंह को चोलापुर, आशीष बारी को बड़ागांव, राहुल चतुर्वेदी को हरहुआ व त्रिलोकी नाथ शर्मा को पिंडरा एवं सेवापुरी विकासखंड का नोडल बनाया गया है। इन्हें निर्देशित किया गया है आदेश का शत-प्रतिशत अनुपालन अपने विकासखंड में कराते हुए कृत कार्रवाई से अधोहस्ताक्षरी एवं विकासखंड के नोडल को अवगत कराना सुनिश्चित करेंगे। 

Related Posts

Post Comments

Comments

Latest News