कर रही मैं मिन्नतें, कर लें मुहब्बत

कर रही मैं मिन्नतें, कर लें मुहब्बत

काव्योदय

छोड़ कर अब नफरतें, कर लें मुहब्बत
है भली यह आदतें, कर लें मुहब्बत 

क्यूँ भटकता फिर रहा तन्हा यहां पर
देख मेरी हसरतें, कर लें मुहब्बत 

धड़कने यह कह रही, मैं बस में तेरे
रब तुझे हम मानते, कर लें मुहब्बत 

हों नज़ारें लाख चाहे इस चमन में
इक तुझे हम चाहते, कर लें मुहब्बत
 
काम सारे, नाम तेरे, क्यूँ यहां हैं
छोड़ सब मसरुफियतें, कर लें मुहब्बत

यह समय जो आज है, शायद न हो कल
कर रही मैं मिन्नतें, कर लें मुहब्बत 

रजनी टाटस्कर 
Tags: Kavyoday

Related Posts

Post Comments

Comments

Latest News

गृहमंत्री अमित शाह से पूर्व मंत्री नारद राय की मुलाकात, बढ़ी बलिया की राजनीतिक तपिश गृहमंत्री अमित शाह से पूर्व मंत्री नारद राय की मुलाकात, बढ़ी बलिया की राजनीतिक तपिश
बलिया : समाजवादी पार्टी से नाता तोड़ने के बाद बलिया के कद्दावर नेता पूर्व मंत्री नारद राय का एक फोटो...
बलिया और तालिबपुर के बीच खेला गया श्री बजरंगबली क्रिकेट प्रतियोगिता का फाइनल मैच
28 मई 2024 : कैसा रहेगा अपना आज, पढ़ें दैनिक राशिफल
बलिया : श्री संत पागल बाबा जी ब्रह्मलीन, आज निकलेगी अंतिम यात्रा
फेसबुक पर पीएम और सीएम के खिलाफ आपत्तिजनक पोस्ट करना पड़ा महंगा, प्रधानाध्यापिका सस्पेंड
बलिया : डीईओ ने किया स्ट्रांग रूम और मतगणना स्थल का निरीक्षण
पानी की तलाश में जान गंवा रहे बेजुबान : बलिया में दो नीलगायों को आवारा कुत्तों ने नोच-नोच कर मार डाला