Breaking News
Home » बलिया » डॉ. नामवर सिंह का बलिया से था अटूट रिश्ता : सुशील

डॉ. नामवर सिंह का बलिया से था अटूट रिश्ता : सुशील

बलिया। हिन्दी साहित्य जगत के पुरोधा एवं ख्यातिलब्ध समालोचक डॉ. नामवर सिंह के निधन की सूचना मिलते ही आचार्य पं. हजारी प्रसाद द्विवेदी के पैतृक गांव ओझवलिया में शोक की लहर दौड़ गयी। सांसद आदर्श गांव ओझवलिया अचानक मनहूस हो गया, क्योंकि डॉ. नामवर सिंह से ओझवलिया का रिश्ता गुरु-शिष्य का था। डॉ. नामवर सिंह हिंदी के प्रख्यात निबंधकार, समालोचक एवं सांस्कृतिक विचारधारा के प्रमुख उपन्यासकार आचार्य पं. हजारी प्रसाद द्विवेदी के प्रिय शिष्य थे। वे अपने गुरु की जयंती व पुण्यतिथि पर आयोजित गोष्ठी में बतौर मुख्य वक्ता में शामिल भी हुए है।

सांसद आदर्श गांव ओझवलिया में बुधवार को आचार्य पं. हजारी प्रसाद द्विवेदी स्मारक समिति के प्रबन्धकारिणी सदस्यों ने समालोचक डॉ. नामवर सिंह के निधन पर श्रद्घांजलि अर्पित किया। समिति के प्रबन्धक सुशील कुमार द्विवेदी ने कहा कि हिंदी आलोचना के ख्यातिलब्ध समालोचक डॉ. नामवर सिंह के निधन से हिंदी आलोचना जगत् की अपूर्णनीय क्षति हुई है। आज हिंदी आलोचना का एक विशाल वट-वृक्ष गिर गया। उनका कृतित्व एवं व्यक्तित्व समाज को युगों तक प्रेरणा देने का काम करेगा। साहित्यकार श्रीशचन्द्र पाठक ने पुराने दिनों को याद करते हुए कहा कि हिंदी साहित्य जगत के प्रखर आलोचक डॉ. नामवर सिंह एवं पं. त्रिलोचन शास्त्री के साथ ओझवलिया बाजार में आचार्य जी की जयंती पर बोली गयी अविस्मरणीय ओजस्वी बातें आज भी मेरे जेहन में है। इस दौरान सत्यनारायण गुप्ता, विनोद गुप्ता, सोनू दुबे, विवेक राय ‘पिन्टू’, विक्की गुप्ता, अक्षय कुमार, बबलू पाठक, अनिरूद्घ वर्मा, वीरेन्द्र दूब मौजूद रहें।

सुशील कुमार द्विवेदी, ओझवलिया बलिया

Share With :
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel
Do Not Forgot To subscribe Purvanchal24 Youtube Offcial Channel

About Poonam ( चीफ इन एडीटर )

चीफ इन एडीटर

Check Also

बलिया : सर्पदंश से किशोरी और बालिका की मौत

नगरा, बलिया। थाना क्षेत्र के पडरी गांव की चौहान बस्ती की एक किशोरी की मौत …

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.