To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


thank for visit purvanchal24
ads booking by purvanchal24@gmail.com

बलिया : श्री लक्ष्मी नारायण महायज्ञ की कलश यात्रा में उमड़ा आस्था जनसमुंद्र

हरेराम यादव
मझौवां, बलिया। श्री श्री 108 श्री हरिदास जी महाराज के सानिध्य में रविवार को रामगढ़ स्थित शिव मंदिर व पुलिस चौकी के समीप से श्री लक्ष्मी नारायण महायज्ञ की भव्य कलश यात्रा और शोभायात्रा निकाली गयी। शोभा यात्रा मैं हजारों की संख्या में श्रद्धालु नर नारी अपने माथे पर कलश लेकर के गंगापुर, मीनापुर, दुर्जनपुर, हुकुम छपरा, तेलिया टोंक, शाहपुर, बलिहार, श्रीनगर, सुघर छपरा, गंगौली होते हुए गंगा नदी के हुकुम छपरा घाट पर पहुंचे।वहां पर वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच पंडित लाल जी शास्त्री, राजेश शास्त्री व संतोष शास्त्री ने गंगा मैया का पूजन अर्चन कराया। सभी श्रद्धालु हर हर महादेव, जय श्री राम, श्री लक्ष्मी नारायण महायज्ञ की जय की उद्घोष करते रहे। भगवन नाम के उद्घोष से पूरा क्षेत्र भक्तिमय में बना रहा।

गंगा घाट से कलश भर कर सभी श्रद्धालु नर नारी यज्ञ मंडप पर पहुंचे, जहां से पूरे विधि विधान के साथ यज्ञ मंडप की पूजा की गई। बाबा ने बताया कि जहां तक यज्ञ हवन पूजन और वैदिक मंत्रोच्चारण सुनाई देती है, वह पूरा इलाका भक्तिमय हो जाता है। कलश यात्रा में चौकी इंचार्ज रामगढ़ मिथिलेश तिवारी व थानाध्यक्ष हल्दी सुनील कुमार सिंह अपने हमराहियों के साथ चक्रमण करते रहे। पुलिस प्रशासन ने भीड़ को कंट्रोल कर कलश यात्रा को सफल बनाया। 


श्री हरिदास बाबा ने बताया कि प्रतिदिन अयोध्या, मथुरा व काशी से पधारे विद्वान संतों के मुखारविंद से श्री राम कथा का रसपान श्रोताओं को कराया जाएगा। इस कलश यात्रा में पूर्व प्रधान बलिहार जयप्रकाश सिंह उर्फ पप्पू, ग्राम प्रधान प्रतिनिधि गंगापुर उमेश यादव, अवनींद्र कुमार ओझा उर्फ पप्पू, पूर्व जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि अयोध्या प्रसाद हिंद, श्रीकांत वर्मा, पंडित कौशल किशोर पांडे, राजीव कुमार मिश्रा, संजय ओझा, दीपक ओझा, जितेंद्र मिश्रा, भगवान दास गुप्ता, ओम प्रकाश यादव, प्रभात मिश्रा, सत्यम मिश्रा, गोपाल ठाकुर, गोविंद ठाकुर, अंकित मिश्रा, मूवी ओझा, सम्राट मिश्रा, धनंजय मिश्रा, शिवम मिश्रा, अमित कुमार, अजीत कुमार, संदीप कुमार, राजेश कुमार, जवाहर सोनी, लालबाबू सोनी, रितेश शर्मा, धर्मेंद्र भारती, सुभाष शर्मा, पवन कुमार आदि लोगों ने बढ़-चढ़कर अपना सहभागिता  जताया।



Post a Comment

0 Comments