To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


thank for visit purvanchal24
ads booking by purvanchal24@gmail.com

बलिया पुलिस को देखते ही बोरा छोड़ भागे 'वो', खुला बड़ा राज


रोहित सिंह मिथिलेश
बलिया। उभांव थाना के तेलमा जमालुद्दीनपुर व मालीपुर के प्राचीन मंदिर से चोरी गई राम, लक्ष्मण और जानकी की मूर्ति बुधवार की देर रात उभांव पुलिस को बरामद करने में सफलता मिली। लेकिन मूर्ति चोर कोहरे का लाभ लेकर भाग जाने में सफल हो गए। उभांव इंस्पेक्टर राजीव कुमार मिश्र ने इसकी पुष्टि किया। बरामद मूर्ति में दो पीतल और तीन अष्टधातु की मूर्ति शामिल है। चोर रात में बाइक से मूर्ति लेकर वाराणसी के लिए ट्रेन पकड़ने वाले थे। इस बीच अवाया ढाबा पर खाना खाने के लिए रुक गए, तभी पुलिस दैनिक गश्त करते हुए पहुंच गई।

पुलिस को देख मूर्ति से भरी बोरी छोड़ चोर बाइक लेकर भाग निकले। संदेह होने पर पुलिस ने रात में पीछा भी किया, लेकिन कोहरे का लाभ लेकर चोर निकल भागे। बरामद मूर्ति में भगवान लक्ष्मण और माता सीता की दो पीतल की मूर्ति है, जो तेलमा जमालुद्दीनपुर गांव के मंदिर से 9 जनवरी को चोरी हुई थी। मूर्ति लेकर आधी रात को ही उभांव इंस्पेक्टर राजीव कुमार मिश्र ने मूर्ति की पहचान महंत मोहन दास पांडे से करवा ली। 

इसके साथ ही तेलमा जमालुद्दीनपुर मंदिर से मूर्ति चोरी का खुलासा हो गया, जबकि अन्य तीन बरामद मूर्ति भगवान राम, लक्ष्मण और सीता अष्टधातु की है। यह 20 दिसम्बर को मालीपुर प्राचीन कुटी मंदिर से चोरी हुई बताई जा रही है। मंदिर से मूर्ति चोरी की घटना के बाद से ही एसपी राजकरन नय्यर के निर्देश पर सक्रिय पुलिस लगातार दबिश लगी थी। इस बीच बुधवार की रात साढ़े दस बजे के आसपास उभांव थाना के सिपाही गोविंद मौर्य व अमित पटेल अवाया ढाबा पर पहुंचे और सफलता मिल गयी।

बताया जा रहा है कि संदिग्ध युवक खाना का ऑर्डर देकर अलाव के पास बैठे थे, जो पुलिस को देखते ही निकल गए। ढाबा संचालक शंभूनाथ चौरसिया के पुत्र ने युवकों को आवाज लगाई। जिसे सुन पुलिस के कान खड़े हो गए और पूरी जानकारी लेने के बाद युवकों के छूटे बोरे का निरीक्षण किया। तत्काल बाइक से उनका पीछा किया। दो किलोमीटर तक पीछा करने के बावजूद कोहरे का लाभ लेकर वे निकल भागे। इसकी सूचना सिपाहियों ने तत्काल इंस्पेक्टर को दी। आसपास के कई थानों की पुलिस ने घेराबंदी किया, लेकिन सफलता नहीं मिली। 

रात में पहुंचे उभांव इंस्पेक्टर राजीव कुमार मिश्र को ढाबा संचालक शंभू चौरसिया ने बताया कि बाइक से पहुंचे दोनों संदिग्ध युवक अलाव के पास बैठे थे और खाने का ऑर्डर दिया। खाना निकल रहा था। दोनों ने वाराणसी जाने के लिए रात के ट्रेन और बस के समय जानकारी ली। इस बीच पहुंचे पुलिस को देख दोनों निकल भागे।

Post a Comment

0 Comments