To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

Murder in Ballia : खून से लथपथ पति का शव देख चिल्लाने लगी पत्नी, शिक्षक के पिता थे पूर्व प्रधान हृदय नारायण सिंह


उमेश सिंह
सुखपुरा, बलिया। उपभोक्ता भंडार बलिया के अध्यक्ष सुखपुरा थाना क्षेत्र के भलुही गांव निवासी पूर्व प्रधान हृदय नारायण सिंह (66) की निर्मम हत्या बदमाशों ने धारदार हथियार से गला काटकर कर दी। उनका जबड़ा भी फाड़ दिया गया है। घटना की जानकारी मंगलवार की सुबह तब हुई, जब पूर्व प्रधान की पत्नी उन्हें जगाने पहुंची। खून से लथपथ पति का शव देख पत्नी चीखने-चिल्लाने लगी, जिसे सुन आसपास के लोग जमा हो गए। एसपी राज करन नय्यर व एएसपी दुर्गा प्रसाद तिवारी के साथ ही बड़ी संख्या में पहुंची पुलिस ने जांच-पड़ताल शुरू कर दी है।  

पूर्व प्रधान हृदय नारायण सिंह रोज की तरह सोमवार की रात घर के बरामदे में सोये थे। मंगलवार की सुबह उनकी पत्नी मुन्नी देवी उन्हें जगाने पहुंची तो वहां का नजारा देख कांप गयी। खून से लथपथ पति का शव देखकर वह दहाड़ मार रोने लगी। सूचना मिलते ही सुखपुरा थाने के अलावा कई थानों की फोर्स पहुंच गई। डॉग स्क्वायड व फॉरेंसिक टीम के साथ एसपी राज करन नय्यर व एएसपी दुर्गा प्रसाद तिवारी भी पहुंच गये। एसपी ने परिवार के लोगों से बातचीत की, लेकिन घटना की वजह साफ नहीं हो सकी है। मृतक के पुत्र की तहरीर पर अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। एसपी राज करन नय्यर ने बताया कि अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर पुलिस सभी बिंदुओं की जांच में जुटी है। मृतक के पुत्र से बात हुई है, जो विवेचना का हिस्सा है। जल्द ही घटना का खुलासा किया जाएगा।

दो बार रहे गांव के प्रधान

पूर्व प्रधान हृदय नारायण सिंह के परिवार में चार बार प्रधानी आ चुकी है। गांव के दो बार प्रधान रह चुके हृदय नारायण सिंह की भाभी और पत्नी मुन्नी भी एक-एक बार प्रधान रह चुकी हैं। बड़ा पुत्र इंद्रपाल सिंह सोनू शिक्षक है,  जबकि छोटा पुत्र रोहन गाजियाबाद में बीटेक की पढ़ाई कर रहा है। उनकी चार पुत्रियां हैं, जिनकी शादी हो चुकी है। 

गांव में पहले भी हो चुकी वारदात

भलुही के पूर्व प्रधान हृदय नारायण सिंह की हत्या ने 2003 में हुए डबल मर्डर की याद ताजा कर दी है। बताया जा रहा है कि 24 जून 2003 की रात बदमाशों ने ब्लॉक प्रमुख गड़वार वीरेंद्र सिंह और उनके दोस्त दीपक सिंह की निर्मम हत्या  सुखपुरा-भलुही मार्ग पर कर दिया था। 

Post a Comment

0 Comments