To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

बलिया में महेन्द्र राजभर बोले - राजभर समाज के लिए भस्मासुर है ओमप्रकाश

अजीत पाठक
सिकन्दरपुर, बलिया। तहसील क्षेत्र के ग्राम सभा कोथ में सुहेलदेव स्वाभिमान पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष महेन्द्र राजभर ने सुभासपा के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर पर जमकर हमला बोला। पार्टी कार्यकर्ताओं से समाज को धोखा देने वालों से सजग रहने को कहा। कहा कि  राजभर समाज के बल पर पार्टी खड़ा करने वाले ओमप्रकाश राजभर आज तक समाज को केवल छलने का काम किए हैं। इसका जीता जागता प्रमाण 2022 का विधानसभा चुनाव है, जिसमें 17 सीटें मिलने के बावजूद स्वयं एवं अपने पुत्र के अलावा किसी भी राजभर के बेटे को चुनाव लड़ने का टिकट नहीं दिया। इससे यह सिद्ध होता है कि वह राजभर समाज के लिए भस्मासुर बन गए हैं। समाज के मान, सम्मान और स्वाभिमान से उनको कोई लेना देना नही है। 

कहा कि आगामी चुनाव में यही राजभर समाज उनका राजनीतिक वध कर देगा। उनके स्वार्थ की राजनीति की वजह से सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी केवल बाप-बेटे की पार्टी बनकर रह गई है। पार्टी को अपना व्यक्तिगत हित साधन का माध्यम बनाने वाले ओमप्रकाश राजभर का अगले चुनाव तक खात्मा होना तय है। उन्होंने सत्ता में आने के बाद समाज के लिए कुछ भी नहीं किया। यही नहीं अपने पुत्र के लिए एमएलसी अथवा राज्यसभा की सीट नहीं मिलने पर भाजपा के खिलाफ अनर्गल प्रलाप कर गठबंधन तोड़ दिया। 

कुछ ऐसा ही हाल सपा के साथ गठबंधन में हुआ। ये राजभर समाज को प्रयोगशाला की तरह इस्तेमाल कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अब राजभर समाज के लोग जागरुक हो गए हैं। न तो उनके हाथों की कठपुतली बनेंगे और न ही झांसे में नहीं आने वाले हैं। सुहेलदेव स्वाभिमान पार्टी में हर कार्यकर्ता को उचित सम्मान मिलेगा और चुनाव में भी कार्यकर्ता को ही टिकट दिया जाएगा। सुहेलदेव स्वाभिमान पार्टी में प्रत्येक कार्यकर्ता को न केवल सम्मान दिया जाएगा बल्कि आने वाले चुनाव में कार्यकर्ताओं की इच्छा के अनुसार टिकट देकर उन्हें उचित सम्मान भी मिलेगा।

इस दौरान सुहेलदेव स्वाभिमान पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बड़े लाल चौहान, अच्छेलाल राजभर, रामाशीष यादव, बंगाली रावत, गुड्डू तिवारी, राम दुलारे राजभर, दलसिंह राजभर, यशवंत कुमार, मनोज राजभर, छठ्ठू राजभर आदि ने संबोधित किया। अध्यक्षता रामदेव राजभर व संचालन हरिहर राजभर ने किया।

Post a Comment

0 Comments