To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

श्रद्धा की हत्या का खौफनाक दास्तान : पहले किए कसमें-वादे, फिर प्रेमिका के कर दिए 35 टुकड़े

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने दिल दहला देने वाली एक हत्याकांड का खुलासा किया है। यहां ल‍िव इन पार्टनर आफताब ने अपनी प्रेम‍िका (Lover) श्रद्धा की न सिर्फ हत्‍या कर दी, बल्कि उसकी लाश को 35 टुकड़ों में आरी से काटकर बांट दिया। यहीं नहीं, लाश गले नहीं इसल‍िए जल्लाद प्रेमी ने नई फ्रीज खरीदकर उसमें लाश के टुकड़ों को रख दिया। लाश से बदबू न आये, इसलिए वह रोज अगरबत्‍ती भी जलाता था। लाश के टुकड़ों को ठिकाने लगाने के लिए कातिल प्रेमी रोज रात के 2 बजे उठकर जंगल जाकर एक टुकड़े को ठ‍िकाने लगा आता था। 

यह भी पढ़ें : Murder in Ballia : खून से लथपथ पति का शव देख चिल्लाने लगी पत्नी, शिक्षक के पिता थे पूर्व प्रधान हृदय नारायण सिंह

26 साल की श्रद्धा मुंबई के मलाड की रहने वाली थी, जो एक मल्टीनेशनल कंपनी के कॉल सेंटर में काम करती थी। आफताब नाम का युवक भी वहीं काम करता था। वर्ष 2019 में कॉल सेंटर पर दोनों की मुलाकात हुई और धीरे-धीरे प्‍यार में बदल गई। हालांकि दोनों के र‍िश्‍ते को लेकर परिवार के लोग खुश नहीं थे। इस वजह से दोनों मुंबई से दिल्ली आकर शिफ्ट होकर महरौली के एक फ्लैट में लिव इन में रहने लगे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, श्रद्धा के प‍िता व‍िकास मदान उसके एक क्‍लासमेट के जरिये बेटी के संपर्क में थे। वह क्‍लासमेट लक्ष्‍मण से अपनी बेटी का हाल-चाल लेते रहते थे। इधर, श्रद्धा ने कई दिन तक लक्ष्मण का फोन नहीं उठाया तो उसे कुछ संदेह हुआ और वह तुरंत श्रद्धा के पि‍ता को इसकी जानकारी दी। 

वही, श्रद्धा अक्सर अपने फेसबुक पेज पर फोटो अपलोड करती रहती थी, जिससे उसके घरवालों को पता चलता रहता था कि वह कहां है। लेकिन सोशल मीड‍िया पर भी श्रद्धा के बारे में कोई अपडेट नहीं म‍िल रहा था। फिर बेटी का हालचाल जानने के ल‍िए विकास मदान 8 नवंबर को दिल्ली पहुंचे तो उसके फ्लैट पर ताला लगा था, तब उन्होंने महरौली पुलिस में शिकायत की। जांच में जुटी पुलिस ने ल‍िव इन पार्टनर आफताब को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में आफताब ने जो कुछ बताया उसे सुन सब हैरान हैं। कोर्ट ने आरोपी आफताब को 5 द‍िन की पुलिस कस्‍टडी में भेज दिया है। 

मीडिया रिपोर्ट् के मुताबिक, श्रद्धा प्रेमी से बार-बार शादी करने के लिए कह रही थी। इसको लेकर आफताब और श्रद्धा के बीच 18 मई को झगड़ा हुआ। इस दौरान श्रद्धा बहुत तेज चिल्ला रही थी। उसकी आवाज आस-पड़ोस के लोग ना सुने, इसलिए आफताब ने श्रद्धा का मुंह दबाया, जिससे उसकी मौत हो गई। श्रद्धा को मरा देख आफताब बहुत घबरा गया। इसके बाद आफताब ने श्रद्धा की लाश ठिकाने लगाने की सोची और आरी से उसके तकरीबन 35 टुकड़े किए। वह श्रद्धा की लाश के टुकड़ों को थैली में भरककर एक-एक करके 18 दिन तक महरौली के जंगलों में फेंकता रहा, ताकि जानवार उन टुकड़ों को खा लें और वह कभी पकड़ा न जाए। मामले में हत्‍या का केस दर्ज कर पुलिस ने श्रद्धा की लाश की तलाश शुरू कर दी है।

Post a Comment

0 Comments