To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

बलिया : सरयू के रास्ते हर हफ्ते भेजे जा रहे दर्जनों गोवंशी, चर्चा में पुलिस की चुप्पी


अजीत पाठक
सिकन्दरपुर, बलिया। एक तरफ प्रदेश सरकार गौ तस्करी और तस्‍करों के खिलाफ सख्‍ती के मूड में है तो दूसरी ओर सिकन्दरपुर पुलिस सरकारी फरमान की धज्जियां उड़ा रही है। पुलिस संरक्षण में इलाके के कई क्षेत्रों से गौ तस्करी धड़ल्ले से की जा रही है। 

वैसे तो सरयू का किनारा सदैव से ही तस्करों के लिए मुफीद रहा है। गौ तस्करी से लेकर शराब व हीरोइन का व्यापार इस रास्ते सरलता से किया जाता है, लेकिन पिछले साल बसारिखपुर में बड़े पैमाने पर गोमांस का कारोबार सामने आने के बाद प्रशासन की थोड़ी सख्ती देखने को मिली थी। जिसके परिणाम स्वरूप गो-तस्करी का धंधा भी बंद हो गया था। लेकिन पिछले करीब छह माह से सरयू के किनारे के इलाकों में गौ तस्करी बड़े पैमाने पर फल फूल रहा है। नदी के रास्ते गौ तस्कर बेखौफ हो दर्जनों गायों को बिहार पहुंचा रहे हैं। बावजूद स्थानीय पुलिस व जिम्मेदार चुप्पी साधे हुए हैं। आलम यह है कि कठौड़ा और लिलकर से हर हफ्ते दो से तीन खेप गायों को बिहार भेजा ज्ज रहा है। 

इस बाबत स्थानीय लोगों ने बताया कि पुलिस अधिकारियों की मिलीभगत से उक्त कार्य को अंजाम दिया जा रहा है। यदि ऐसा नही होता तो हर सप्ताह दर्जनों गो वंशियों को बिहार नही भेजा जाता। लोगों ने बताया कि तस्करों की मदद के एवज में पुलिसकर्मी मोटी रकम वसूल रहे हैं। हद तो यह है कि उक्त कार्य को दिन के उजाले में किया जा रहा है। बावजूद पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। बताया कि गौ तस्करों को कहीं न कहीं थाना का सहयोग प्राप्त है। पुलिस के बल पर ही इसके खिलाफ आवाज उठाने वाले को फर्जी मुकदमा में फसाने की धमकी भी दी जाती है। इस सम्बंध में सीओ भूषण वर्मा ने कहा कि गोवंशियों की तस्करी पूरी तरह प्रतिबन्धित है। यदि ऐसा हो रहा है तो सम्बन्धित के विरुद्ध कड़ी व सख्त करवाई की जाएगी।

Post a Comment

0 Comments