To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

बलिया : शिक्षकों और ग्राम प्रधानों को सम्मानित कर बीएसए ने दिया 'निपुण भारत मिशन' के लक्ष्य की सम्प्राप्ति का मंत्र

बलिया। शिक्षा क्षेत्र नगरा के ग्राम प्रधान, स्थानीय प्राधिकारी निकाय के सदस्यों एवं प्रधानाध्यापकों की ब्लॉक स्तरीय संगोष्ठी व उन्मुखीकरण कार्यशाला शहबान मेमोरियल महाविद्यालय, नगरा पर हुई, जिसमें शिक्षा में गुणात्मक सुधार, शिक्षक-ग्राम प्रधान समन्वय एवं निपुण भारत के लक्ष्यों की सम्प्राप्ति पर मंत्रणा की गई। वक्ताओं ने बेसिक शिक्षा की बेहतरी को तमाम टिप्स दिये। इससे पहले बीएसए मनिराम सिंह व ब्लाक प्रमुख अंजू पासवान ने संयुक्त रूप से कार्यशाला का शुभारम्भ किया।

कार्यशाला को सम्बोधित करते हुए बीएसए मनिराम सिंह ने कहा कि ग्राम प्रधान व शिक्षकों में आपसी सामंजस्य से ही विद्यालय का विकास होगा। प्राथमिक शिक्षा बच्चे की नींव होती है। इसको सभी लोग मिलकर मजबूत करें, ताकि बच्चों का सर्वागीण विकास हो और हमारा देश आगे बढ़े। बीएसए ने मिशन कायाकल्प के तहत कराए गए कार्यो पर प्रकाश डालने के साथ ही स्कूलों को उत्कृष्ट बनाने में ग्राम प्रधानों की भूमिका की सराहना की।

निपुण भारत मिशन की चर्चा करते हुए बीएसए ने कहा सभी ग्राम प्रधान, सचिव, प्रधानाध्यापक, शिक्षक एवं एआरपी मिलकर लक्ष्य को प्राप्त करें। विद्यालय प्रबंध समिति, ग्राम प्रधान, प्रधानाध्यापक तथा अभिभावक यह समझें कि विद्यालय हमारा है। हमें यहा अच्छा परिवेश विकसित करना है, ताकि हमारे बच्चे आगे चलकर देश के अच्छे नागरिक बन सकें। साथ ही बीएसए ने मिशन कायाकल्प के अंतर्गत 19 बिंदुओं पर प्राथमिकता के साथ कार्य पूरा कराने का आग्रह किया। 

कार्यशाला को डायट प्रवक्ता भानु प्रताप सिंह, अभिषेक सिंह, डीसी नुरूल हुदा, खंड शिक्षा अधिकारी विनय कुमार वर्मा, विशाल यादव, सीडीपीओ अजय सिंह, जयप्रकाश यादव व सभी एआरपी ने सम्बोधित किया। कार्यक्रम में एआरपी दयाशंकर, शैलेन्द्र प्रताप यादव, अजीत यादव, संजय यादव ने सहयोग प्रदान किया। अतिथियों का स्वागत खंड शिक्षा अधिकारी व आभार प्रदर्शन वीरेंद्र नाथ यादव ने किया।

29 शिक्षकों के साथ सभी प्रधान सम्मानित

कार्यक्रम में नगरा शिक्षा क्षेत्र के 29 शिक्षकों, सभी ग्राम प्रधान तथा सचिव को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन रामकृष्ण मौर्य व डॉ. विद्यासागर उपाध्याय ने संयुक्त रूप से किया। 

Post a Comment

0 Comments