To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

सार्थक रही बलिया के शशांक की मेहनत : JEECUP में 130वीं रैंक प्राप्त कर बढ़ाया सम्मान

बलिया। बांसडीह तहसील अंर्तगत केवरा गांव निवासी शशांक मिश्र पुत्र जितेंद्र मिश्र ने न केवल घर, परिवार बल्कि जिले का सम्मान बढ़ाया है। शशांक ने बताया कि JEECUP (joint examination counselling 2022 (Politechnic) UP के सार्थक परिणाम में परिवार का विशेष योगदान है।

ये है परीक्षा की विशेषता

दरअसल यूपी में एक ही सरकारी कॉलेज है, जिसका नाम नेरोनॉटिकल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट यूपी, लखनऊ एयरपोर्ट है। शशांक मिश्र ने बताया कि आल इंडिया में उसे 130वीं रैंक मिली है। इस कॉलेज में प्रत्येक वर्ष 90 छात्रों का चयन होता है। जिसकी परीक्षा JEECUP (joint entrance exam up) द्वारा लिया जाता है।इससे मैं काफी खुश हूं। यह मेहनत का प्रतिफल हैं, जिसका श्रेय पूरे परिवार को जाता है।

गांव से लगायत बाहर रह रहे परिवार के सदस्यों से मिल रही बधाई

बता दें कि शशांक मिश्र वरिष्ठ पत्रकार नरेन्द्र मिश्र के सगे भतीजा हैं। परिवार के सदस्य नौकरी करते हैं। शशांक के पिता जितेन्द्र मिश्र खेती करते हैं। माता सीमा गृहणी हैं।परिवार लंबा है। स्वीडन से भाई धीरेंद्र व भाभी रोमी ने तो बधाई दी ही, सिद्धांत ने congratulations कहा। वहीं नागपुर से भाई शैलेंद्र व भाभी किरण ने शुभकामनाएं दीं।मुंबई से भाई सचिन, भाभी आयुषी ने ढेर सारी बधाइयां दी हैं। जयपुर से बड़े पापा सत्येंद्र व बड़ी मम्मी पुष्पा ने खुशी जाहिर की है। गांव की बात करें तो बड़े पप्पू पापा ने कहा कि आज हम धन्य हो गए हैं, जो मेरे शशांक ने आल इंडिया परीक्षा में 130 रैंक पाया है। बड़ी मम्मी शीला फूलें नहीं समा रही हैं। 

सबसे बड़ी मम्मी ललिता ने शशांक को आशीर्वाद देते हुए कहा कि जीवन में आगे बढ़ते रहो। यही मेरा आशीर्वाद है। बड़े भाई भूपेंद्र ने पीठ थपथपाई, भाभी पूजा, चाची कंचन आशीर्वाद देते नहीं थक रही हैं। दीदी नेहा, स्मृति, प्रज्ञा ने गिफ्ट की मांग पहले ही कर दी है। जबकि अभी एडमिशन हुआ है, किंतु खुशी खुशी ही होती है। प्रज्ञान, शास्वत ने खिलौना मांगा एवं अंशिका, साक्षी प्रवीसी, निखिल ने कहा हम लोग भी गिफ्ट ही लेंगे। ऐसे में लखनऊ से भाई सुरेंद्र, भाभी अंजू ने स्नेहभरा आशीर्वाद देते हुए कहा जल्दी गांव से लखनऊ आओ। नवनीत, विनीत ने चाचा शशांक को प्रणाम बोलकर खुशियों का इजहार किया।

Post a Comment

0 Comments