To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

बलिया से गाजीपुर तक रेलवे के क्षेत्र में जल्द दिखेगा शानदार परिवर्तन : सांसद

बैरिया, बलिया। रेलवे के क्षेत्र में शानदार परिवर्तन होगा। पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबंधक अशोक कुमार मिश्र के साथ क्षेत्रीय संसदीय समिति की बैठक से यह उम्मीद जगी है। बैठक में पूर्वांचल के आधा दर्जन से अधिक सांसदों ने भाग लिया। इसमें रेलवे के विकास से संबंधित परियोजनाओं पर विचार विमर्श किया गया। अपने-अपने क्षेत्रों में सांसदों ने विकास और रेलवे के विस्तार के संदर्भ में प्रस्ताव रखा, जिस पर सहमति प्रदान की गई।

बैठक में मौजूद सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त ने महाप्रबन्धक से तत्काल छपरा बलिया वाराणसी रेलखंड के दोहरीकरण का कार्य पूरा कराने, मांझी में निर्माणाधीन रेलवे पुल का कार्य इस वर्ष के अंत तक पूरा करा देने का सुझाव दिया, ताकि इस रेलखंड पर दोहरीकरण का लाभ लोगों को मिल सके। सांसद ने पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबंधक से कहा कि यूसुफपुर व सुरेमनपुर में बलिया की तरह स्टेशन पर राष्ट्रीय ध्वज लगाया जाए। वही दोनों स्टेशनों पर 18 अगस्त 1942 में शहीद हुए वीर अमर सपूतों की सूची उदृत कराई जाए।

सांसद ने तत्काल हमसफर एक्सप्रेस को छपरा तक विस्तार करने और उसके बदले हुए नाम को लिखवाने व चित्तू पांडे रेलवे अस्पताल का तत्काल विस्तार व उचीकृत करने का सुझाव दिया। आरा बलिया रेल लाइन के कार्य में तेजी लाने व फेफना तथा गाजीपुर के कठवा मोड़ पर जाम से छुटकारा के लिए रेलवे ट्रैक पर ओवरब्रिज बनवाने का सुझाव सांसद ने दिया, जिसे पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबंधक ने तत्काल स्वीकार करते हुए इस संदर्भ में त्वरित कार्रवाई करने का भरोसा दिया।

छपरा के सांसद राजीव प्रताप रूडी, महाराजगंज के सांसद जनार्दन सिंह सिग्रीवाल, राज्यसभा सदस्य सीमा द्विवेदी, अजय अशोक व गाजीपुर के सांसद अफजाल अंसारी भी मौजूद थे। जिन्होंने अपने-अपने क्षेत्रों में रेलवे के विकास व विस्तार के लिए महाप्रबंधक के समक्ष प्रस्ताव रखा, जिस पर महाप्रबंधक ने सकारात्मक सहमति दी। इस बैठक में डीआरएम विजय कुमार पंजीयार के साथ  रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे। बैठक से लौटे सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त ने उक्त जानकारी देते हुए कहा कि कुछ ट्रेनों के यूसुफपुर व सुरेमनपुर  में ठहराव का भी प्रस्ताव मैंने भेजा है। उस पर तत्काल स्वीकृति मिलने की उम्मीद है।


शिवदयाल पांडेय मनन

Post a Comment

0 Comments