To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


thank for visit purvanchal24
ads booking by purvanchal24@gmail.com

पांच फर्जी शिक्षकों के खिलाफ मुकदमा, ऐसे खुली पोल

लखनऊ। झांसी में फर्जी नियुक्ति पत्रों के सहारे सरकारी स्कूलों में नौकरी हासिल करने के बड़े खेल का खुलासा हुआ है। यहां तीन राजकीय माध्यमिक स्कूलों में फर्जी नियुक्ति पत्र के माध्यम से कार्यभार ग्रहण करने वाले पांच शिक्षकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया है। वहीं बिना सत्यापन शिक्षकों को ज्वाइनिंग देने वाली तीन प्रधानाध्यापिकाओं के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की संस्तुति की गई है।वहीं, इस खेल के सरगना की भी तलाश की जा रही है। पकड़े गए सभी लोग आजमगढ़ के हैं।

अपर शिक्षा निदेशक (राजकीय) केके गुप्ता ने बताया कि निदेशालय को झांसी के राजकीय हाईस्कूल खडौरा में शिक्षक पद पर आजमगढ़ के पंचदेव को कार्यभार ग्रहण कराने की आख्या प्राप्त हुई। प्रथम दृष्टया नियुक्ति पत्र फर्जी प्रतीत हुआ। मामले की जांच झांसी के जिला विद्यालय निरीक्षक (डीआइओएस) को सौंपी गई। जांच में पता चला कि लोक सेवा आयोग द्वारा राजकीय माध्यमिक स्कूलों में शिक्षक पद पर चयनित होने वाले अभ्यर्थी को पहली पोस्टिंग के लिए एनआइसी की मदद से तैयार किए गए पोर्टल https//: seceduonlineposting.up.gov.in के माध्यम से सत्यापन नहीं किया गया। इस वेब पोर्टल पर सभी जिलों के डीआइओएस की लागिन उपलब्ध होती है। वह अपने जिले में तैनाती पाने वाले शिक्षकों का इसी की मदद से आनलाइन सत्यापन करते हैं।

सीधे नियुक्ति पत्र देखकर कार्यभार ग्रहण कराने वाली विद्यालय की प्रधानाध्यापिका प्रीति सागर ने बताया कि ऐसे ही रण विजय विश्वकर्मा और नरेन्द्र कुमार मौर्य को भी विद्यालय में कार्यभार ग्रहण कराया गया है। फिर पूरे जिले में नियुक्ति पाने वाले शिक्षकों की जांच की गई तो पता चला कि राजकीय हाईस्कूल वीरा में लक्षिरामपुर, आजमगढ़ की अमृता कुशवाहा और राजकीय हाईस्कूल बम्हौरी सुहाग में मधनापार , आजमगढ़ निवासी मैनावती भी फर्जी नियुक्ति पत्र के सहारे कार्यभार ग्रहण कर चुकी हैं।

शिक्षकों को कार्यभार ग्रहण कराने में विभागीय निर्देशों का पालन न करने और लापरवाही बरतने के आरोप में राजकीय हाईस्कूल खडौरा की प्रधानाध्यापिका प्रीति सागर, राजकीय हाईस्कूल वीरा की प्रधानाध्यापिका ऊषा पठार व राजकीय हाईस्कूल बम्हौरी सुहागी की प्रधानाध्यापिका पूनम के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। वहीं पांचों फर्जी शिक्षकों के खिलाफ संबंधित थानों में एफआइआर दर्ज कराई गई है और पुलिस ने उन्हें जेल भेज दिया है।


Post a Comment

0 Comments