To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

बलिया में तबाही मचाने को बेताब उफनाई घाघरा की लहरें, लोगों की बढ़ी धड़कन

बैरिया, बलिया। सुरेमपुर दियराचंल के गोपालनगर टाड़ी के निकट कटान तेज होने से आधा दर्जन गांव के लोग दहशत में है। टाड़ी के अलावा गोपालनगर व शिवाल मठिया गांव के तरफ भी कटान तेज हो गया है। अगर यही स्थिति रही तो कुछ ही शिवाल मठिया, गोपालनगर, टाड़ी सहित सुरेमनपुर दियरांचल इत्यादि गांवों का अस्तित्व संकट में पड़ जायेगा। 

ग्रामीणों की माने तो कटानरोधी कार्य मानक के अनुसार नहीं होने के कारण पहले के कटान स्थल के अलावा शिवाल मठिया व गोपालनगर पुलिस चौकी की तरफ और दो दिशाओं में कटान तेज हो चुका है। रोज करीब तीन से चार एकड़ उपजाऊ भूमि सरयू नदी में विलीन हो रही है। दियरांचल के लोग प्राकृति के सामने लाचार है, जबकि सम्बंधित विभाग पूरी तरह से उदासीनता बरत रहा है।

सुरेमनपुर दियरांचल के केवल गोपालनगर टाड़ी गांव को कटान से बचाने के लिए चार करोड़ रुपये की लागत से जिओ बैग विधि द्वारा कटान रोधी कार्य बाढ़ विभाग ने कराया था। सरयू नदी के कटान के जद में आकर कटान रोधी सुरक्षात्मक कार्य का अस्तित्व समाप्त हो चुका है। अब गोपालनगर पुलिस चौकी व शिवाल मठिया की तरफ भी कटान तेज होने से ग्रामीणों में दहशत है।

इस सन्दर्भ में बाढ़ विभाग के अधिकारी बहुत कुछ नहीं कह पा रहे है। उनका कहना है कि बम्बू क्रेट विधि से गोपालनगर टाड़ी को बचाने का प्रयास जारी है। सफलता-असफलता नदी के रुख पर निर्भर है। दूसरी तरफ गोपालनगर, शिवाल मठिया, मानगढ़, वशिष्ठनगर आदि गांव के लोग भी सरयू नदी का तल्ख तेवर देख भयाक्रांत है।जिलाधिकारी व जनप्रतिनिधियों से व्यापक स्तर पर दियरांचल में कटान रोधी कार्य कराने की गुहार लगा रहे है, ताकि 1954 की स्थिति पैदा न हो।

सरयू नदी में कटानरोधी कार्य का प्रोजेक्ट केवल गोपालनगर टाड़ी को बचाने के उद्देश्य से बनाया गया था, किंतु सरयू नदी में काफी नीचे से कटान होने के कारण हम लोग कटान रोधी कार्य को नही बचा सकें। बाढ़ का मौसम समाप्त होने पर विशेषज्ञों की टीम यहां आकर स्थलीय निरीक्षण के बाद कार्ययोजना तैयार करेगी। उसी आधार पर कटान रोधी कार्य कराया जाएगा।
अमृतलाल, एसडीओ बाढ़ खण्ड बलिया

स्थिति पर नजर है। तटवर्तीय लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने को कह दिया गया है। कटान पीड़ितों की सूची बनाकर जल्द ही बसाने का लिए जमीन उपलब्ध कराया जाएगा। इसके लिए टीम लगा दी गयी है।
आत्रेय मिश्र, उपजिलाधिकारी बैरिया


शिवदयाल पांडेय मनन

Post a Comment

0 Comments