To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

निरीक्षण में मिली खामियों पर बलिया बीएसए तल्ख, कई शिक्षक-शिक्षामित्रों पर कार्रवाई ; बीईओ से स्पष्टीकरण

बलिया। बीएसए मनिराम सिंह ने शनिवार को 10 विद्यालयों का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान अनुपस्थित मिले अध्यापकों का बीएसए ने न सिर्फ वेतन रोका, बल्कि चेतावनी भी दिया कि सुबह 7.30 से अपरान्ह 1.30 तक कोई भी शिक्षक, शिक्षामित्र व अनुदेशक स्कूल न छोड़े। साथ ही शत-प्रतिशत डीबीटी, नवीन नामांकन तथा नामांकन के सापेक्ष छात्र उपस्थिति सुनिश्चित करे, अन्यथा की स्थिति में सम्बंधित विद्यालय के सभी शिक्षक, शिक्षामित्र व अनुदेशक का वेतन/मानदेय रोक दिया जायेगा।

बीएसए सबसे पहले शिक्षा क्षेत्र हनुमानगंज के कम्पोजिट विद्यालय टकरसन पहुंचे, जहां सअ अपर्णा तिवारी हस्ताक्षर बनाकर गायब थी। वहीं शिक्षामित्र चंदन मिश्र व माधुरी सिंह अनुपस्थित मिले। बीएसए ने इनका वेतन/मानदेय काटने का निर्देश दिया है। शिक्षा क्षेत्र बेरूआरबारी के प्रावि मैरीटार की व्यवस्था ठीक मिली। मिशन कायाकल्प में भी प्रधान की भूमिका की सराहना बीएसए ने की। शिक्षा क्षेत्र बांसडीह के प्रावि हालपुर नम्बर एक की स्थिति ठीक थी, लेकिन दो पर कम उपस्थिति व डीबीटी प्रगति संतोषजनक नहीं मिली। उप्रावि सकलपुरा पर सअ रूपेश कुमार दूबे सात जुलाई से निरीक्षण तिथि तक अनुपस्थित मिले। बीएसए ने इनका वेतन अग्रिम आदेश तक रोक दिया है। वहीं, नामांकन के सापेक्ष कम उपस्थिति और डीबीटी प्रगति ठीक नहीं मिली। शिक्षा क्षेत्र दुबहर के कम्पोजिट विद्यालय चकरी की व्यवस्था ठीक नहीं मिली। 169 के सापेक्ष 33 बच्चे उपस्थित थे। प्रावि मुडियारी नं.2 पर 204 के सापेक्ष 143 बच्चे ही उपस्थित थे। शिक्षा क्षेत्र मनियर के प्रावि सुल्तानपुर में 171 के सापेक्ष 114 बच्चे ही उपस्थित थे। कम्पोजिट मानिकपुर पर सअ सर्वेश कुमार गुप्ता 12.30 बजे ही चले गये थे। इस पर बीएसए ने कड़ी नाराजगी जताई। छात्र उपस्थिति और डीबीटी व्यवस्था भी संतोषजनक नहीं थी। बीएसए ने सम्बंधित स्कूल के प्रधानाध्यापकों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। वहीं, बीआरसी मनियर के लेखाकार दुर्गेश सिंह व कम्प्यूटर सहायक अमन कुमार सिंह को लेकर बीएसए ने खंड शिक्षा अधिकारी से स्पष्टीकरण तलब किया है। बीएसए ने स्पष्ट किया है कि सभी शिक्षक, शिक्षामित्र व अनुदेशक समय के साथ ही शिक्षण व सभी सम्बंधित कार्य पर ध्यान दे, अन्यथा कार्रवाई तय है। वहीं, कस्तुरबा बांसडीह की व्यवस्था से नाराज बीएसए ने वार्डेन को सुधार के लिए एक सप्ताह का अल्टीमेटम दिया।

Post a Comment

0 Comments