To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

मिशन पर्यावरण संरक्षण : हरियाली का प्रहरी बना बलिया का यह शिक्षक, आप भी बढ़ाएं हाथ

बलिय। पर्यावरण संरक्षण केवल सरकार का कार्य नहीं, इसमें जनजागृति आवश्यक है। इसके बगैर पर्यावरण संरक्षण के लिए कोई भी प्रयास सफल नहीं हो सकता। यही कारण है कि कुछ लोग पौधारोपण के प्रति वृहद अभियान चला रहे हैं, ताकि जन-जन में पर्यावरण के प्रति प्रेम जगे। कुछ उन्हीं लोगों में से एक हैं जिले में तैनात परिषदीय शिक्षक शैलेंद्र प्रताप।

शिक्षा क्षेत्र नगरा में बतौर एआरपी तैनात शैलेंद्र प्रताप पर्यावरण संरक्षण के लिए नियमित पौधरोपण करते है। लोगों में पौधा बांटने के साथ ही तमाम गतिविधियां इजाद करते रहते है। अभी 31 मई को ही मऊ के तमसा नदी के मड़ैया घाट से शैलेंद्र प्रताप ने 120 किलोमीटर की पर्यावरण पदयात्रा शुरू की थी, जिसका समापन शुक्रवार को अस्सी घाट पर हुआ था। अस्सी घाट पर गंगामित्रों ने यात्रा में शामिल पदयात्रियों का भव्य स्वागत किया था।  

शैलेंद्र प्रताप की इस पदयात्रा का मुख्य उद्देश्य तमसा रिवर फ्रंट पार्क, पेड़ पौधों के महत्व, सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग न करने, ऊर्जा के संसाधनों के उचित उपयोग के लिए लोगो को जागरूक करना था। शिक्षक शैलेंद्र ने बताया कि 5 सितम्बर 2020 कोरोना काल में जब लोग ऑक्सीजन की कमी से अपनों का साथ छोड़ रहे थे, तभी हमने प्रण लिया कि आजीवन एक पौधा देकर लोगों को जागकरुक करूंगा। उन्हें सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग के दुष्प्रभाव को बताऊंगा। नदियों के महत्व को समझाऊंगा। उन्होंने बताया कि इसका आज 637 दिन पूरा हो गया है। इसी कड़ी में मां गंगा की सहायक नदी तमसा, जो काफी प्रदूषित हो गई है। इसे स्वच्छ रखने के लिए हम लोगों ने पर्यावरण की पदयात्रा निकाली।

इसमें मऊ जनपद के हजारों लोग उन्हें बॅार्डर तक छोड़ने गये थे। उन्होंने बताया कि इस पदयात्रा में वो और उनके पांच साथी शामिल थे। बताया कि हम ऐसे ही आगे भी जागरूकता अभियान चलाते रहेंगे। अगले महीने अब साइकिल यात्रा शुरु की जाएगी। इसके लिए हमने प्रधानमंत्री मोदी को ज्ञापन देंगे कि सिंगल यूज प्लास्टिक, पेड़-पौधों और मां तमसा नदी रिवर फ्रंट पार्क बन जाए। इसके बाद हम साइकिल से अगले महीने मुख्यमंत्री योगी जी के यहां साइकिल से पहुंचेंगे।

Post a Comment

0 Comments