To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

बलिया : तालाब की भूमि पर देर रात को लगाई बाबा साहब की प्रतिमा, सुबह मिली गायब तो समर्थकों ने काटा बवाल


सिकन्दरपुर, बलिया। खेजुरी थाना क्षेत्र के जिगिरसड़ गांव में तालाब की जमीन पर सोमवार की देर रात आंबेडकर प्रतिमा और सुबह मूर्ति गायब होने से लोगों में रोष व्याप्त है। प्रतिमा गायब होने की जानकारी होते ही उक्त स्थान पर सैकड़ो की संख्या में ग्रामीण उपस्थित हो गए। इससे गांव का माहौल तनावपूर्ण हो गया। सूचना पर पहुंचे मय पुलिस फोर्स एसएचओ अखिलेश कुमार ने लोगों से बात कर फिलहाल मामले को शांत करा दिया है। 

ये है मामला

गांव के सिद्धेश्वर नाथ मंदिर तालाब को अमृत सरोवर के रूप में विकसित किया जाना है। करीब एक पखवारे पूर्व ही उसका सीमांकन कर अवैध अतिक्रमण को हटवाया गया था। इसी बीच सोमवार की देर रात हरिजन विरादरी के लोगों ने तालाब की भूमि के ईशान कोण पर आंबेडकर की प्रतिमा लगा दी। हालांकि उस दौरान गांव के अन्य लोगों को इसकी जानकारी नही हुई। प्रतिमा लगाने के बाद सभी अपने घर चले गए। इसी बीच रात में ही किसी समय प्रतिमा गायब कर दी गई।


मंगलवार की सुबह लोगों को जब मूर्ति गायब होने की जानकारी हुई तो मौके पर सैकड़ों की संख्या में स्त्री पुरुष जमा हो गए और विरोध करना शुरू कर दिया। इससे वहां का माहौल तनावपूर्ण हो गया। इसकी सूचना लोगों ने तत्काल पुलिस को दी। मौके पर पहुंचे एसएचओ अखिलेश कुमार ने लोगों से बात कर मामले को शांत कराया। बताया कि तालाब की जमीन पर रात में कुछ लोगों ने मूर्ति स्थापित की थी, जो फिलहाल गायब है। तहरीर अभी मिली नहीं है। लिखित शिकायत पर मामला दर्ज कर मूर्ति का पता लगाया जाएगा। 

पुलिस पर मिलीभगत का लगाया आरोप

उधर, विरोध कर रहे लोग स्थानीय पुलिस पर मिलीभगत का आरोप लगा रहे थे। बाबा साहब के अनुयायी प्रभुनाथ राम, राम आशीष, रामू कुमार, रमेश, टुनटुन, बब्बन, जगन्नाथ, सुशील कुमार और शिवनाथ का आरोप है कि उक्त मूर्ति को पुलिस की मिलीभगत से ही हटवाया गया है। कहना था कि जब तालाब की जमीन पर लोगों का मकान बन सकता है तो बाबा साहब की मूर्ति क्यों नहीं लग सकती।

Post a Comment

0 Comments