To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

Ballia Triple Murder Case : बाप-भाई ने देख लिया था खून का 'खून', हत्यारोपियों ने बड़ी इत्मीनान से किया ट्रिपल मर्डर

बलिया। हल्दी थाना क्षेत्र के सोनवानी गांव में हुए ट्रिपल मर्डर की घटना का अंजाम आरोपियों ने बड़ी इत्मीनान से दिया। आरोपी सोमवार की रात करीब साढ़े नौ बजे के बाद हत्याकांड को अंजाम देने में जुट गये थे। पुलिस के अनुसार आरोपियों ने संदीप सिंह की हत्या कर शव को कुएं में छिपा दिया, लेकिन संदीप सिंह को उसके घर से ले जाते समय पिता उमाशंकर सिंह व भाई आनंद विक्रम सिंह ने देख लिया था। इस कारण अभियुक्तों द्वारा संदीप के भाई और पिता की भी हत्या कर दी गई। पुलिस ने मंगलवार को ही तीहरे हत्याकांड का खुलासा कर दिया है। इस हत्याकांड की तफ्तीश में पुलिस को चौंकाने वाले तथ्य मिले हैं। 

यह भी पढ़ेंBallia Triple Murder Case : बलिया में तिहरे हत्याकांड का सनसनीखेज खुलासा, गिरफ्तार अभियुक्तों ने बताई घटना की खौफनाक कहानी

मुख्य आरोपित प्रवीण सिंह भोलू अपने साथी अमन सिंह सोनू, संजीत सिंह व मानवेंद्र प्रताप सिंह उर्फ छोटू ने संदीप, आनंद विक्रम तथा उमाशंकर सिंह की चाकू से बेरहमी से हत्या कर दी। फिर संदीप और विक्रम के शव को कुआं में डालने के बाद उमाशंकर का शव घर में ही छोड़ दिया था। यही नहीं, तिहरे हत्याकांड को अंजाम देने के बाद घर में मौजूद बक्से का ताला तोड़कर 2.50 लाख रुपये भी निकाल लिया था।

हल्दी थाना क्षेत्र के सोनवानी गांव में सोमवार की रात गांव के ही चार युवकों ने बाप और दो बेटों की हत्या कर दी। एक साथ तीन हत्या का मामला शासन तक पहुंच गया। घटनास्थल पर एसपी राजकरन नय्यर व एएसपी दुर्गा प्रसाद तिवारी भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गये। कुछ देर बाद ही डीआईजी (आजमगढ़) अखिलेश कुमार व फिर एडीजी (वाराणसी) राम कुमार मौके पर पहुंचे। हत्याकांड की मानिटरिंग डीजीपी कार्यालय से होने लगी। यहां पांच पुलिस टीम बनाकर अफसरों ने अलग-अलग टास्क दिया। 

मामले की छानबीन में जुटी पुलिस को सर्विलांस के जरिये अहम सुराग मिला। चूंकि संदीप से भोलू की घटना से कुछ देर पहले मोबाइल पर बातचीत हुई थी, लिहाजा शक की सूई भोलू के तरफ घुम गयी। फिर, पुलिस के प्रयास से सभी आरोपितों को आठ घंटे में ही गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तार चारों आरोपितों को पुलिस लाइन लाया गया, जहां पर डीआईजी (आजमगढ़) अखिलेश कुमार व एडीजी (वाराणसी) राम कुमार ने पूछताछ की। पुलिस के अनुसार, हत्यारोपितों द्वारा हत्या के बाद ताला तोड़कर निकाले गये 2.50 लाख रुपये भी बरामद कर लिया गया। 


रोहित सिंह मिथिलेश/एके भारद्वाज

Post a Comment

0 Comments