To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

बलिया में राज्य ललित कला अकादमी की ग्रीष्म कालीन चित्रकला प्रशिक्षण कार्यशाला शुरू

बलिया। राज्य ललित कला अकादमी उत्तर प्रदेश लखनऊ की ओर से ग्रीष्म कालीन चित्रकला प्रशिक्षण कार्यशाला का शुभारम्भ विश्व पर्यावरण दिवस पर पर्यावरणविद डॉ. गणेश पाठक ने दीप प्रज्वलित कर किया। इस अवसर पर प्रशिक्षुओं ने पर्यावरण को बचाने के￰ लिए एक से￰ बढकर एक पोस्टर बनाकर चित्रों के माध्यम से समाज को संदेश दिए। 

पर्यावरणविद एवं भूगोलवेत्ता डॉ गणेश पाठक ने कहा कि पर्यावरण को सुरक्षित रखने वाले तत्वों के साथ हमें अनुकूल व्यवहार करना चाहिए। विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर हमें संकल्प लेना चाहिए कि अपने जन्म दिवस के अवसर पर अभिभावकों से उपहार स्वरूप एक पौधे की मांग करेंगे या किसी अवसर पर किसी को भेंट या उपहार देना हो तो हम पौधे ही उपहार में देंगे। ग्रीष्मकालीन चित्रकला कार्यशाला के उद्घाटन के अवसर पर कहीं । उन्होंने कहा बदलते हुए भौगोलिक परिस्थितियों में यह जरूरी है कि हम अपने पर्यावरण के प्रति जागरूक हों नहीं तो आने वाली पीढ़ी के लिए कुछ भी शेष नहीं बचेगा।

राज्य ललित कला अकादमी उ.प्र. द्वारा  आयोजित  ग्रीष्मकालीन चित्रकला कार्यशाला का उद्घाटन रविवार को टाउन इंटर कॉलेज बलिया के सभागार में हुआ।‌ इस अवसर पर जनपद के वरिष्ठ रंगकर्मी निर्देशक आशीष त्रिवेदी ने कहा व्यक्तित्व विकास के लिए ऐसे कार्यशालाओं में बच्चों को जरूर भेजना चाहिए।  उन्होंने कहा कि प्रत्येक बच्चे के अंदर कोई न कोई कला छिपी रहती है जरूरत है उसे चिन्हित करने और उसे निखारने की । कला हमें विशेष बनाती है और सम्पूर्ण व्यक्तित्व को विकसित करने में मदद करती है। कार्यशाला के संयोजक डॉ. इफ्तेखार खान ने  बताया कि कार्यशाला प्रतिदिन सुबह 8:00 बजे से 10:00 बजे तक टाउन इंटर कॉलेज में चलेगा इसमें बच्चों को ड्राइंग और पेंटिंग की बारीकियां विषय विशेषज्ञों द्वारा बताई जाएंगी।  कार्यशाला के समापन पर प्रदर्शनी का भी आयोजन किया जाएगा। इस अवसर पर प्रशिक्षक कला अध्यापिका सुरभि पांडेय,जामिया मिलिया दिल्ली फाइन आर्ट के कैफ खान, राजकीय महिला पॉलिटेक्निक बलिया के हेड ऑफ़ डिपार्टमेंट आईटी राजेश कुमार, प्रवक्ता रिजवान अहमद, श्रीमती सपना पाठक,  संजय कुमार मौर्य, आनंद कुमार चौहान, कृष्ण कुमार यादव, ट्विंकल गुप्ता इत्यादि सैकड़ों लोग उपस्थित रहे।

Post a Comment

0 Comments