To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

शिक्षक ने 'मां' को समर्पित की शब्दों की यह माला


मां
तुम मेरी आदर्श हो,
नित्य निरंतर हर्ष हो।
तुम मेरा उपहार हो,
निश्चल प्रेम प्रकार हो।

क्रोध-शांति का अद्भूत समन्वय हो,
ममता में सागर से विशाल हो।
जीवन पथ में रोशनी देती हो,
स्वंय को जलाने वाली मशाल हो।

तुम न तो ईश्वर का अवतार हो,
न मनुष्योपरी कोई चमत्कार हो।
फिर कैसे मां तुम मानव होकर भी,
समस्त मानव जाति से महान हो।

सुनील यादव
सहायक अध्यापक
प्रावि रूद्रपुर, बेलहरी-बलिया

Post a Comment

0 Comments