To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

बलिया : गोआश्रय स्थल की बदइंतजामी आई सामने, युवाओं ने एसडीएम को दिखाया का सच

बलिया। प्रदेश सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता में शामिल गोवंश संरक्षण के इंतजाम नाकाफी साबित हो रहे हैं। बेसहारा पशुओं को रखने के लिए बने अस्थाई गो आश्रय स्थलों की स्थिति बदतर होती जा रही है। ऐसा कोई दिन नहीं बीतता जब लापरवाही, देखरेख और चारा व पानी के अभाव में गोवंशी दम न तोड़ रहे हों। 

हड़सर गो आश्रय केंद्र का हाल बेहाल 

नवानगर ब्लॉक की ग्राम पंचायत हड़सर के तिवारीपुर में संचालित अस्थाई गो आश्रय केंद्र में 70 पशु रखने की व्यवस्था है। लेकिन इन पशुओं को भरपेट भूसा, हरा चारा, पानी तथा पौष्टिक आहार की समुचित व्यवस्था नहीं है। उनकी ठीक तरह से देखभाल भी नहीं हो पा रही है। पशु बीमार होकर मर रहे हैं। इससे क्षेत्रीय लोगों में भारी आक्रोश व्याप्त है।

एक सप्ताह में कम हो गए आधा दर्जन पशु

इन बेजुबानों के प्रति बरती जा रही लापरवाही की हद यह है कि एक सप्ताह में एक-एक कर आधा दर्जन गोवंशी घट चुके हैं। इनकी घटती संख्या पर कोई भी जिम्मेदार मुंह नही खोल रहा है। हद तो यह है कि उक्त केंद्र पर गुरुवार रात से बछड़ा मरा पड़ा था, लेकिन कोई पूछने वाला नहीं था। शुक्रवार की सुबह इसकी जानकारी होने पर मानव कल्याण परिषद के अध्यक्ष पुष्कर राय मोनू ने इसकी सूचना एसडीएम सिकन्दरपुर प्रशांत कुमार नायक को दी। सूचना पर पहुंचे एसडीएम ने व्यवस्था के सच को अपनी आंखों से देखा। इस दौरान पशुओं की गणना की गई तो उनकी संख्या 64 थी, जबकि यहां 70 पशु रखे गए थे। 

एसडीएम ने तैनात कर्मचारियों की जमकर फटकार लगाई और कार्य में लापरवाही न बरतने की हिदायत दी। कहा कि शिकायत मिली तो कार्रवाई सुनिश्चित है। उधर पशु चिकित्सा अधिकारी नवानगर एसपी सिंह ने बताया कि वह गोवंशी पिछले कई दिनों से बीमार था। इस दौरान भागवत चरण दुबे, गौतम जायसवाल, राहुल राय, रितेश कुमार, ओम नारायण, सोनू राजभर, आशुतोष पटेल, पंकज साहनी, अभिषेक तिवारी, मनोहर गुप्ता आदि भी मौजूद रहे।

Post a Comment

0 Comments